Breaking News

शनि की साढ़े साती के आखिरी चरण में इन राशि के जातकों को मिलेगा शुभफल

शनि देव को नवग्रहों में सबसे उच्च स्थान दिया जाता है। सभी 12 राशियों पर शनि की महादशा का प्रभाव पड़ता ही हैं। मकर और कुंभ राशि के स्वामी शनि होते हैं। तुला इनकी उच्च राशि में है तो वहीं मेष इनकी नीच राशि मानी जाती है। एक राशि में शनि का ठहराव ढ़ाई वर्ष तक का होता हैं। अन्य ग्रहों की तुलना में शनि ग्रह बहुत धीमी गति से चलता है। शनि का राशि परिवर्तन भी अधिक समय में होता है। एक साथ करीबन 5 राशियों को प्रभावित करते हैं। आइए जानते हैं कौन सी राशि पर साढ़े साती का अंतिम चरण चल रहा है।

धनु राशि

इस राशि के जातकों पर साढ़े साती का आखिरी चरण चल रहा है। 29 अप्रैल 2022 में को इन राशि वालों को साढ़े साती से मुक्ति मिल जाएगी। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, साढ़े साती के अंतिम चरण में जातक को कम परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। इस चरण में जातक को शनिदेव से कुछ ना कुछ लाभ जरूर मिलेगा। ये चरण शुभ फल देने वाला होता है। जो व्यापारी लोग है उनके व्यापार में लाभ होगा। प्रेम संबंध के लिए ये समय अच्छा रहेगा। धन लाभ के योग भी बनेंगे।

क्या होती है शनि की साढ़े साती ?

 

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, व्यक्ति की जन्म कुंडली के 12वें, पहले, दूसरे और जन्म के चंद्र के ऊपर से होकर गुजरता है, तो उसे शनि की साढ़े साती कहा जाता हैं। तीन चरण में शनि की साढ़े साती होती हैं। पहले दो चरणों को बहुत कष्टकारी बताया जाता है, जबकि आखिरी चरण में शनिदेव जातक को सदैव अच्छा और शुभ फल देते हैं।

ऐसा है साढ़े साती का आखिरी चरण

शनि

ज्योतिष के अनुसार मिथुन, कर्क, तुला, वृश्चिक और मीन राशि वालों के लिए शनि की साढ़े साती का आखिरी चरण कष्टकारी माना जाता है। व्यक्ति की आमदनी से अधिक धन खर्च होने लगता है। इस चरण में वाद विवाद के योग भी होते हैं। संक्षिप्त में कहा जाए तो शनिदेव जातक को आखिरी चरण में अपनी भूलों को सुधारने का मौका देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *