Breaking News

1 रात में बदली इस शख्स की किस्मत, घर की छत फटकर आसमान से गिरा खजाना, रातोंरात बना करोड़पति

कई बार इंसान की कही हुई कहावतें सच हो जाती है. जब भी किसी शख्स की किस्मत पलटती है, तो उसे चमकते देर नहीं लगती. जी हां जब कभी ऊपरवाला देता है तो छप्पर फाड़कर ही देता है, और ये सच हुआ है, इंडोनेशिया के रहने वाले शख्स के साथ. जो पलभर में करोड़पति बन गया है. दरअसल ये पूरा मामला इंडोनेशिया (Indonesia) का है. जहां पर ताबूत बनाने वाले 33 साल के जोसुआ हुतागलुंग के घर पर आसमान से एक ऐसा अनोखा खजाना गिरा है, जिसके बाद वो करोड़पति बन गया.

बताया जा रहा है कि, जोसुआ के घर पर आकाश से एक बड़ा सा उल्कापिंड (Meteorite) गिरा था. जो तकरीबन साढ़े 4 अरब साल पुराना दुर्लभ उल्कापिंड है. जानकारी के मुताबिक जब उल्कापिंड (Meteorite) गिरा, तो जोसुआ उत्तरी सुमात्रा के कोलांग में अपने घर के पास में ही काम पर लगे थे. कहा जा रहा है कि, गिरे हुए उल्कापिंड का वजन करीब 2.1 किलोग्राम है. हालांकि उल्कापिंड सीधा जोसुआ के घर में गिरा है, जिसके चलते उनके घर में एक बड़ा सा छेद भी हो गया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि, उल्कापिंड लेकर जोसुआ को करीब 10 करोड़ रुपये दिए गए हैं. कहा जा रहा है कि, उल्कापिंड को निकालने के लिए जोसुआ ने जमीन की काफी गहराई तक खुदाई की थी. meteoriteइसके बाद ये अनमोल उल्कापिंड बाहर निकला था. जानकारी की माने तो उपर से गिरा ये उल्काापिंड 4.5 अरब साल पुराना है. यही नहीं जोसुआ को मिला उल्कापिंड किसी दुर्लभ प्रजाति का बताया जा रहा है. जिसकी कीमत 857 डॉलर प्रति ग्राम है.

उल्कापिंड के बारे में बात करते हुए जोसुआ ने कहा कि, जिस वक्त उनके घर ये उल्कापिंड गिरा, उस समय पूरा घर हिल गया. उन्होंने बताया कि जब जमीन की खुदाई करके उन्होंने उसे निकाला तब वो काफी ज्यादा गर्म था, इसके साथ ही टूटा भी गया था. जोसुआ का कहना है कि ये उल्कापिंड उनके घर पर इतनी गति के साथ गिरा था कि, घर से संबंधित कई भाग पूरी तरह से हिल चुके थे. उन्होंने ये भी बताया कि, ‘जब मैंने छत की ओर देखा तो वो टूट चुकी थी. ऐसे में मुझे अंदाजा लग चुका था कि, ये पत्थर जरूर आसमान से गिरा है, जिसे कई लोग उल्का पिंड कहते हैं. ये बात इस वजह से भी संभव थी क्योंकि मेरी छत पर किसी का पत्थर फेंकना असंभव है.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *