Breaking News

उत्तर प्रदेश के किसानों की हालत लगातार सुधारने में लगी योगी सरकार, आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए उठाया बड़ा कदम

उत्तर प्रदेश के किसानों की हालत लगातार सुधारने में लगी योगी आदित्यनाथ सरकार उनकी आर्थिक स्थिति को मजबूत करने के लिए भी बड़ा कदम उठाया है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने समोवार को प्रदेश के पचास लाख दस हजार से अधिक किसानों को अंश प्रमाण पत्र प्रदान किया। इस दौरान उन्होंने प्रगतिशील किसानों को भी संबोधित किया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को लोक भवन में वर्चुअल विधि से प्रदेश के 50 लाख 10 हजार से अधिक अन्नदाता किसानों को अंश प्रमाण-पत्र वितरित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि किसान अपने परिश्रम से प्रदेश में खुशहाली ला रहे है। यूपी की बढ़ती अर्थव्यवस्था में किसानों की अहम भूमिका है। हमारी सरकार के कार्यकाल में किसानों को तकनीक से जोड़ा गया। जिससे किसानों की तमाम समस्याओं का समाधान हुआ है। उन्होंने कहा कि हमने प्रदेश के गन्ना किसानों को माफियाओं से मुक्ति दिलाई है। हर स्तर पर तकनीकी के उपयोग से गन्ना माफिया को खत्म करने में सफलता प्राप्त की। बीते पांच वर्ष में रिकॉर्ड गन्ना भुगतान किया गया है। इसके साथ ही हमने किसी चीनी मिल को बंद नहीं होने दिया है। कोरोना संक्रमण काल के दौरान यूपी में चीनी मिल चालू थीं। इस वर्ष भी 82 प्रतिशत गन्ना मूल्य का भुगतान किया है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि समय पर गन्ना की पेराई हो। हमने गन्ना किसानों को लेकर कानून बनाया है। प्रदेश में पहले गन्ना माफिया हावी होते थे। अब तो प्रदेश में गन्ना किसान ग्रीन ईंधन भी दे रहे हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि किसान हमारे लिए सर्वोच्च प्राथमिकता में हैं और आगे भी रहेंगे। हमने तो तकनीकी से भ्रष्टाचार पर लगाम कसी है। प्रदेश में बॉयोफ्यूल की यूनिट लगेगी। इसके साथ ही हर चीनी मिल की क्षमता का विस्तार करना, नई चीनी मिलों को लगाना तथा पीपीपी मॉडल पर भी कुछ मिलों को लगाने के कार्यक्रम को आगे बढ़ाएंगे। उन्होंने कहा कि आने वाला समय गन्ना किसानों का होगा। सहकारिता आंदोलन के लिए पीएम नरेन्द्र मोदी का आभार है। उत्तर प्रदेश सहकारी गन्ना विकास समितियों एवं सहकारी चीनी मिल समितियों के अंशधारक कृषकों के अंश में भी बढोतरी करेंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज महाराष्ट्र और कर्नाटक की आधी चीनी मिल बंद हो गई। कोरोना काल में किसानों की समस्याओ को लेकर बैठक की थी। लॉकडाउन में चीनी मिल चलाने का प्लान बनाया, जो सफल रहा और यह सिर्फ तकनीक के इस्तेमाल का नतीजा था। अन्नदाता किसान हमारे लिए सम्मानीय रहा है। यूपी पर परमात्मा की असीम कृपा है उस राज्य में असीम क्षमता है। यहाँ का किसान अन्य राज्यों का भी पेट भरता है। यूपी को देश की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनाने का काम किसान कर रहे है। 11 किसान भाईयों ने अपनी बात रखी उनकी बात अत्यंत अच्छी थी। आज किसान धाराप्रवाह अपनी बात रख रहे यह जताती है की आपको व्यावहारिक जानकारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *