Breaking News

शोध में हुआ बड़ा खुलासा -कोरोना को मात देने के लिए बेहद कारगर है च्यवनप्राश

केजीएमयू में हुए बीसीजी, प्लाज्मा व च्यवनप्राश के ट्रायल के सकारात्मक परिणाम दिखे हैं। बीसीजी के ट्रायल में शामिल हेल्थ वर्कर पर कोरोना वायरस का असर कम हुआ है तो प्लाज्मा थेरेपी से भी मरीजों की जान बच रही है।


इससे चिकित्सक, विशेषज्ञों की टीम उत्साहित है। ट्रायल के नतीजों का मूल्यांकन शुरू हो गया है। हालांकि, तीन माह तक ट्रायल में शामिल लोगों पर नजर रखी जाएगी।
केजीएमयू में प्लाज्मा थेरेपी का पहला ट्रायल 26 अप्रैल को शुरू हुआ था। प्रदेश में इकलौता ट्रायल करने वाले केजीएमयू ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की गाइडलाइन के तहत 12 लोगों पर ट्रायल किया। सूत्र बताते हैं कि इसमें 50 फीसदी से ज्यादा को फायदा मिला। इसके बाद करीब 50 लोगों को प्लाज्मा थेरेपी दी गई, जिसमें 41 की जान बचाई गई है।

ट्रायल के सकारात्मक नतीजों को देखते हुए आईसीएमआर और स्वास्थ्य मंत्रालय ने सभी चिकित्सा संस्थानों और मेडिकल कॉलेजों को प्लाज्मा थेरेपी देने का निर्देश दिया है। पीजीआई में अब तक 21 मरीजों को थेरेपी दी गई, जिसमें 17 ठीक हुए हैं। लोहिया संस्थान में 10 मरीजों को थेरेपी दी जा चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *