Breaking News

विश्व में एड्स को मात देकर रचा था इतिहास…जिंदगी की जंग हार गए बर्लिन पेशेंट

दुनिया में एड्स को पहली बार मात देनेवाला शख्स कैंसर से जिंदगी की जंग हार गया. बुधवार को इंटरनेशनल एड्स सोसायटी ने इसकी जानकारी दी. ‘बर्लिन पेशेंट’ के नाम से मशहूर टिमोथी रेय ब्राउन ने दस साल पहले एचआईवी से ठीक होकर इतिहास रचा था. अपनी मौत से कुछ महीने पहले ब्राउन में ल्यूकोमिया की पुनरावृत्ति हो गई थी. जिसकी वजह से आखिरकार कैलोफोर्निया में उसकी मौत हो गई. जिंदगी की जंग हार गया ‘बर्लिन पेशेंट’

टिमोथी रेय ब्राउन को 90 की दहाई में एड्स और 2006 में ल्यूकेमिया का पता चला. फ्री यूनिवर्सिटी ऑफ बर्लिन में उसके इलाज के लिए डॉक्टरों ने काफी मशक्कत की. ल्यूकेमिया और एचआईवी से छुटकारे के लिए उसका दो बार बोन मैरो ट्रांसप्लांट किया गया. डॉक्टरों को उम्मीद थी कि इलाज से ब्राउन को एचआईवी और कैंसर दोनों से छुटकारा मिल जाएगा. 2008 में दो खतरनाक प्रक्रिया के बाद उसकी बीमारी ठीक हो गई. इसलिए पहचान छिपाने की खातिर उसका नाम ‘बर्लिन पेशेंट’ रखा गया. दो साल बाद उसने लोगों के सामने अपने अनुभव को सार्वजनिक किया. उसने बताया कि सफल जिंदगी की शुरुआत करने में उसे कैसे मदद मिली. 2012 में उसने न्यूज एजेंसी एएफपी को बताया, “मैं एड्स को हरानेवाला जीता जागता सबूत हूं. एचआईवी से छुटकारा पाना आश्चर्यजनक था.” मगर दस साल बाद उसे एक बार फिर ल्यूकोमिया हो गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *