Breaking News

लखीमपुर हिंसा मामला: गिरफ्तारी के लिए नवजोत सिंह सिद्धू धरने पर, गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र ने कहा- मेरा बेटा निर्दोष

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी कांड को लेकर शुक्रवार को भी सियासी हलचल तेज रही। एक तरफ जहां पूरे मामले में घिरे केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र ‘टेनी’ ने इस वारदात में आरोपित अपने बेटे आशीष मिश्र का बचाव किया तो वहीं विपक्ष उसकी गिरफ्तारी पर अड़ा रहा। अजय मिश्र ने कहा कि उनका पुत्र निर्दोष है और वह शनिवार को पुलिस की क्राइम ब्रांच के सामने पेश होगा। वहीं मंत्री के बेटे को गिरफ्तारी का मांग को लेकर पंजाब कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू पीड़ित परिवारों से मुलाकात करने के बाद लखीमपुर खीरी में मौन धरने पर बैठ गए हैं। इस बीच आशीष मिश्र को पुलिस की नोटिस के बावजूद पेश नहीं होने पर उनके घर पर एक और नोटिस चस्पा कर दिया।

लखीमपुर की घटना में घिरे केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा ‘टेनी’ ने कहा है कि इस वारदात में आरोपित उनका पुत्र आशीष मिश्र उर्फ मोनू निर्दोष है और वह शनिवार को पुलिस की क्राइम ब्रांच के सामने पेश होगा। वह शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उनके सरकारी आवास पर भाजपा के अवध क्षेत्र के सांसदों-विधायकों की बैठक में शामिल होने के लिए लखनऊ आए थे। अजय मिश्र लखीमपुर खीरी के सांसद हैं। बैठक में भाग लेने के लिए वीवीआइपी गेस्ट हाउस से मुख्यमंत्री आवास के लिए रवाना होने से पहले मीडिया से संक्षिप्त बातचीत में उन्होंने कहा कि मेरे बेटे को कल नोटिस मिली थी। आज उसका स्वास्थ्य ठीक नहीं है। वह कल पुलिस के सामने पेश होगा और अपना अभिकथन व साक्ष्य आदि प्रस्तुत करेगा। भाजपा की सरकार निष्पक्ष तरीके से काम करती है। जांच में जो दोषी पाया जाएगा उस पर कार्रवाई होगी। विपक्ष की ओर से केंद्रीय मंत्रिमंडल से अपनी बर्खास्तगी की मांग पर कहा कि विपक्ष तो ऐसी मांग करता ही है।

पुलिस के सामने नहीं आए आशीष, दूसरा नोटिस चस्पा : लखीमपुर हिंसा में चार किसानों की हत्या के मुख्य आरोपित और केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी के बेटे आशीष मिश्र उर्फ मोनू पुलिस की नोटिस के बावजूद शुक्रवार को पेश नहीं हुए। उन्हें सुबह दस बजे पुलिस लाइन में स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम के समक्ष अपना पक्ष रखना था लेकिन टीम आशीष का इंतजार ही करती रही। दोपहर ढाई बजे पता चला कि वह बीमार हैं और आने में असमर्थ हैं। इसके बाद पुलिस ने उनकी कोठी पर शनिवार को 11 बजे पेश होने के लिए नोटिस चस्पा कर दिया। सीआरपीसी की धारा 160 के तहत बयान दर्ज कराने के लिए आशीष की कोठी पर गुरुवार को नोटिस चस्पा किया गया था। उम्मीद थी कि आशीष पुलिस के सामने अपना पक्ष रखेंगे लेकिन ऐसा न हुआ। दूसरी ओर तिकुनिया हिंसा के दो आरोपितों लवकुश राणा व आशीष पांडेय को क्राइम ब्रांच ने शुक्रवार को सीजेएम अदालत में पेश किया। सीजेएम चिंताराम ने दोनों आरोपितों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में लेकर जेल भेज दिया।

मृत पत्रकार के घर के बाहर धरने पर बैठे सिद्धू : पंजाब के वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू पीड़ित लखीमपुर खीरी में परिवारों से मुलाकात करने के बाद निघासन में दिवंगत पत्रकार रमन कश्यप के घर के बाहर मौन धरने पर बैठ गए हैं। शुक्रवार शाम यहां पहुंचे सिद्धू ने स्वजन से कहा कि कांग्रेस आपके साथ है और आपकी हरसंभव मदद भी करेगी। सिद्धू ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मेरे लिए संविधान से बड़ा कुछ नहीं, उसी संविधान का कत्ल करने का प्रयास किया गया है। यहां इंसानियत मर चुकी है, जिस प्रकार किसानों के ऊपर गाड़ियां चढ़ाई गई है, यह इंसानियत का कत्ल है। आरोप लगाया कि किसान आंदोलन में हुई घटना के तमाम साक्ष्य व वीडियो होने के बावजूद भी केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के बेटे आशीष को गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जब तक मंत्री के बेटे को गिरफ्तार नहीं किया जाता तब तक न कुछ खाएंगे और न कुछ पिएंगे। इतना कहकर नवजोत सिंह सिद्धू रमन के घर के बाहर मौन अनशन पर बैठ गए।

अखिलेश का वादा, सरकार बनने पर देंगे सहायता : पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव शुक्रवार को लखीमपुर खीरी कांड में मृत किसान गुरुविंदर सिंह के बहराइच स्थित गांव मोहरनिया एवं बंजारन टाडा में दलजीत सिंह के आवास पर पहुंचे। उन्होंने पीड़ित परिवार से मिलकर उन्हें ढाढ़स बंधाया। कहा, सपा की सरकार बनने पर परिवार की आर्थिक मदद की जाएगी। न्याय मिलने तक समाजवादी पार्टी पीडि़त परिवार के साथ है। अखिलेश ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मोदी सरकार जब तक केंद्रीय गृह राज्यमंत्री को मंत्री पद से नहीं हटाएगी, निष्पक्ष जांच नहीं हो सकेगी, क्योंकि अधिकारी जब जांच करने जाता है तो पहले सैल्यूट मारता है तो जांच क्या कर पाएगा।

गृह राज्य मंत्री को करें बर्खास्त : आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रभारी व राज्यसभा सदस्य संजय सिंह शुक्रवार को बहराइच पहुंचे और लखीमपुर खीरी कांड में मृत किसान गुरुविंदर सिंह और दलजीत सिंह के परिवार से मिलकर ढाढ़स बंधाया। उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से परिवार की बात कराई। दिवंगत किसान गुरुविंदर के पिता सरदार सुखविंदर सिंह बोले, आप लोग साथ हैं तो इंसाफ जरूर मिलेगा। राज्यसभा सदस्य ने कहा कि किसानों को रौंदकर मारने के मामले में मुख्य आरोपित आशीष मिश्र मोनू के पिता केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी को प्रधानमंत्री तत्काल बर्खास्त करें, जिससे घटना की निष्पक्ष जांच हो सके। कहा, अजय मिश्र की बर्खास्तगी इसलिए जरूरी है कि उनके अधीन देश की तमाम जांच एजेंसियां काम करती हैं। कहा कि सात दिन के भीतर आरोपितों की गिरफ्तारी न हुई तो आप चुप नहीं बैठेगी।

 

शिरोमणि अकाली दल के प्रतिनिधिमंडल ने लगाया जख्मों पर मरहम :  शुक्रवार को पंजाब के शिरोमणि अकाली दल के नेताओं ने लखीमपुर खीरी कांड में मृत किसान लवप्रीत सिंह, पत्रकार रमन कश्यप और धौरहरा के किसान नक्षत्र सिंह के परिवार से मुलाकात की और उनको ढाढ़स बंधाया। प्रतिनिधिमंडल ने परिवार को न्याय मिलने तक सहयोग देने व मदद करने का भी आश्वासन दिया। पूर्व केंद्रीय मंत्री रही हरसिमरत कौर बादल ने किसानों की हत्या को घृणित बताते हुए प्रदेश सरकार पर लापरवाही से काम करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जब तक केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अपने पद से इस्तीफा नहीं दे देते हैं तब तक पीड़ितों को न्याय नहीं मिल सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *