Breaking News

राहुल गांधी के करीबी को लेकर कांग्रेस में छिड़ी जंग, गहलोत-पायलट समर्थकों के बीच अब पोस्‍टर वार

राहुल गांधी (Rahul Gandhi) की भारत जोड़ो यात्रा (India Jodo Yatra) आज राजस्थान (Rajasthan) में प्रवेश करने वाली है। कांग्रेस (Congress) भले ही इस बात का दावा करे कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Chief Minister Ashok Gehlot) और उनके पूर्व डिप्टी सचिन पायलट (Sachin Pilot) के बीच सबकुछ ठीक चल रहा है, लेकिन पोस्टर के लिए जारी लड़ाई दावों का पोल खोल रही है। दोनों ही दिग्गजों के समर्थक राहुल की पदयात्रा से पहले एकतरफा प्रदर्शन की कोशिश कर रहे हैं। दोनों नेताओं के समर्थकों के बीच प्रभुत्व को उजागर करने की होड़ लगी हुई है।

झालावाड़ में कांग्रेस से 2019 का लोकसभा चुनाव लड़ने वाले प्रमोद शर्मा ने आरोप लगाया कि पायलट खेमा गहलोत के प्रभाव को कमजोर करने का प्रयास कर रहा है। शर्मा ने झालावाड़ जिले के प्रभारी मंत्री प्रमोद जैन भाया पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि वह स्थानीय लोगों के एक अलग समूह का नेतृत्व कर पार्टी की जड़ों को कमजोर कर रहे हैं और इस तरह पार्टी के अन्य कार्यकर्ताओं के प्रयासों को दरकिनार कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, “विशेष गुट (भैया का गुट) हर जगह सचिन पायलट के साथ ही आगे बढ़ रहा है। कई पोस्टरों और होर्डिंग्स में पायलट, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा की तस्वीरें सबसे अधिक जगह ले रही हैं, जबकि अशोक गहलोत की तस्वीरें प्रमुखता से कम है।” उन्होंने यह भी दावा किया कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी की तस्वीरें होर्डिंग्स में छोटे घेरे तक ही सीमित हैं।

व्यवस्थाओं में शामिल एक अन्य स्थानीय नेता ने कहा कि गहलोत और पायलट के बीच संघर्ष जल्द खत्म होता नहीं दिख रहा है और होर्डिंग्स में यह साफ झलक रहा है। झालावाड़ के चंवाली में कांग्रेस सेवादल के एक कार्यकर्ता ने यह बात कही है।

झालावाड़ जिला कांग्रेस अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह गुर्जर ने कहा कि कोई आपसी लड़ाई नहीं थी। पायलट के वफादार माने जाने वाले गुर्जर ने शनिवार को पीटीआई को बताया कि पार्टी कार्यकर्ता अपनी पसंद के नेताओं की फोटो वाले बैनर तैयार करते हैं। उन्होंने कहा कि सभी विज्ञापनों में केवल तीन चीजें प्रमुख होती हैं- राहुल गांधी की तस्वीर, पार्टी का नाम और उसका चुनाव चिह्न। उन्होंने कहा कि पार्टी के सभी नेता और कार्यकर्ता राजस्थान में राहुल गांधी का स्वागत करने के लिए उत्सुक हैं। वहीं, पीसीसी सदस्य और पायलट के वफादार सुरेश गुर्जर ने भी गुटबाजी और एक विशेष गुट के प्रभुत्व से इनकार किया। उन्होंने कहा कि गहलोत और पायलट दोनों ही उनके नेता हैं और यात्रा से जुड़े सभी विज्ञापनों में उनकी तस्वीरें प्रमुखता से प्रदर्शित की जाती हैं।

आपको बता दें कि राहुल की यात्रा रविवार शाम मध्य प्रदेश से झालावाड़ में प्रवेश करेगी। सोमवार की सुबह, गांधी यात्रा के राजस्थान चरण की शुरुआत काली तलाई इलाके से करेंगे, जो भाजपा नेता वसुंधरा राजे के निर्वाचन क्षेत्र झालरापाटन के अंतर्गत आता है। राजे 2003 से झालारापाटन का प्रतिनिधित्व कर रही हैं, जबकि उनके बेटे दुष्यंत सिंह झालवाड़ निर्वाचन क्षेत्र से तीसरी बार सांसद हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *