Breaking News

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव: छत्तीसगढ़ सरकार की तैयारियां जोरों पर

छत्तीसगढ़ में आदिवासी संस्कृति के संरक्षण संवर्धन और इसे राष्ट्रीय स्तर पर मंच प्रदान करने के उद्देश्य से राजधानी रायपुर के साइंस कॉलेज मैदान में 28 से 30 अक्टूबर तक राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों और संस्कृति मंत्रियो को भी आमंत्रित किया गया है। छत्तीसगढ़ में आगामी दिनों में राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के दौरान देशभर से आये आदिवासियों को छत्तीसगढ़ की संस्कृति को भी नज़दीक से देखने का अवसर मिलेगा। इस आयोजन में छत्तीसगढ़ के साथ-साथ देश के विभिन्न राज्यों और विदेश के कलाकारों द्वारा भी आकर्षक सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तूति दी जायेगी।

राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के आयोजन के लिए प्रारंभिक तैयारियां शुरू कर दी गई है। पिछले दिनों स्थानीय महंत घासीदास संग्रहालय में प्रदेश के सभी संभाग से आए दस द्वारा आदिवासी नर्तक दलों की प्रस्तुति दी गई। संस्कृति विभाग के अधिकारियों ने बताया कि संभाग स्तर पर चयनित अलग-अलग विधाओं के कलाकारों का चयन किया जाएगा। चयनित दलों को प्रदेश स्तरीय आयोजन में अपनी कला और संस्कृति की प्रस्तुति देने का मौका मिलेगा। आदिवासी नर्तक दलों की प्रस्तुति में गरियाबंद और धमतरी जिले के मांदरी नृत्य, भुजिया नृत्य, महासमुंद जिले के कर्मा नृत्य, भाटापारा-बलौदाबाजार जिले के सुवा नर्तक दल द्वारा प्रस्तुति दी गई।

आदिवासी संस्कृति विभाग द्वारा आयोजित छत्तीसगढ़ सरकार के महत्वकांक्षी राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य में शामिल होने आए विभिन्न प्रांतों के कलाकारों को ऊंची स्तरीय मान सम्मान के साथ सारी सुविधा उपलब्ध करा कर भूपेश सरकार ने आदिवासी समाज के लिए अपनी पूरी ताकत और अपनी इच्छाशक्ति को प्रकट किया है, जो पूरे विश्व में आदिवासी समाज के लिए बड़े गौरव की बात मानी जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की इच्छा के अनुरूप आदिवासी नृत्य महोत्सव पूरे देश के गौरव और शान से हो. पूरे विश्व में आदिवासी समाज की अभूतपूर्व प्रतिभा को देश के नाम से रोशन करने का बीड़ा छत्तीसगढ़ सरकार ने उठाया। लोक कलाकार और विभिन्न जिलों से आए हुए सभी दल को उच्च स्तरीय सुविधा देकर उनका मान सम्मान के अनुसार उनको उच्च स्तरीय प्रदर्शन हेतु तैयार करने के लिए माध्यम बनाकर छत्तीसगढ़ सरकार लगातार प्रयास कर रही है. पूरे देश के विभिन्न प्रदेश के मुख्यमंत्री को विशेषकर आदिवासी समाज के बड़े नेताओं को और समाज के प्रमुखों को आमंत्रित कर भूपेश सरकार ने पूरे देश में एक मिसाल कायम की. आगामी 28 तारीख से राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव को अंतिम तैयारी का रूप दिया जा रहा है.

 

भव्य आदिवासी नृत्य महोत्सव के लिए प्रदेशभर से अलग-अलग नृत्य दल एवं मजरा टोला के प्रमुख और अपने गांव के कलाकारों के साथ सभी रायपुर अपनी आमद दे चुके हैं. कार्यक्रम की तैयारी अंतिम रूप में चल रही है. विभिन्न स्तर में नृत्य महोत्सव में भाग लेने वाले टोली अपना प्रदर्शन अच्छे से अच्छा करने के लिए प्रयास कर रहे हैं. और इस कार्यक्रम को सुचारू से संचालित करने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने अपने विशेष अधिकारियों को ड्यूटी में लगाकर आदिवासियों के हितों की रक्षा करने का जी जान लगा दिया है. इससे आदिवासी समाज के सामाजिक संरचना पर ध्यान रखने वाले बड़े-बड़े विद्वान भी दांतो तले उंगली चबा चुके है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *