Breaking News

भारत का एक गांव ऐसा भी, जहां आजादी के बाद आज तक नहीं हुआ कोई केस या मुकद्दमा दर्ज

क्या आप अंदाजा लगा सकते हैं कि आज के वक्त में किसी गांव में केस या मुकद्दमा न दर्ज हुआ हो, जी हां, अपने देश में एक गांव ऐसा भी है, जहां आजादी के बाद से अब तक एक भी केस या मुकद्दमा दर्ज नहीं हुआ है। ऐसा भी नहीं है कि इस गांव में झगड़ा-लड़ाई या विवाद नहीं होता। होता सब कुछ है, लेकिन यहां के लोग समस्याओं को मिल बैठ कर सुलझा लेते हैं। यह गांव है बिहार में।

No FIR against AIIMS officials despite proof: NGO to Court

थरुहट क्षेत्र का यह गांव पश्चिम चंपारण जिले के नरकटियागंज अनुमंडल के गौनाहा प्रखंड के सहोदरा थाने का कटराव है। गांधी जी आज भी यहां के लोगों के लिए पूजनीय हैं। उनके आदर्शों पर चलते हैं। अहिंसा यहां के लोगों का सबसे बड़ा हथियार है। गांधी के चंपारण आगमन व सत्याग्रह का यहां आज भी प्रभाव देखने को मिलता है।

गांव में आजादी के बाद से आज तक ताश व जुए का खेल नहीं खेला गया है। यहां के लोग इस तरह के खेल को गलत मानते हैं। इसके दुष्परिणाम को देखते हुए गांव के लोगों ने ही जुए व ताश के खेल को सर्वसम्मति से बैन कर रखा है। समय काटने व मनोरंजन के लिए लोग भजन व कीर्तन करते हैं।

सहोदरा थानाध्यक्ष अशोक साह भी इस बात की पुष्टि करते हैं कि कटराव गांव का एक भी केस थाने में दर्ज नहीं है। जमुनिया पंचायत के मुखिया सुनील गढ़वाल कहते हैं कि गांव में थारूओं की आबादी अधिक है। ये लोग मेरे (मुखिया) या सरपंच के पास किसी भी विवाद को लेकर नहीं जाते हैं। खुद ही आपस में मिल-बैठकर विवाद या समस्या का निपटारा कर लेते हैं। इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि महिलाओं से संबंधित मामले महिलाएं ही निपटाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *