Breaking News

‘बाबर से भी बुरी सोनिया की टीम’, कंगना रनौत ने उद्धव सरकार को कहा ‘गुंडा’

कोरोना महामारी के बीच केंद्र सरकार ने 15 अक्टूबर से बार, मॉल और रेस्टोरेंट खोलने का ऐलान कर दिया है। ऐसे में अब राज्य सरकार पर निर्भर करता है कि वह अपने राज्य के हित को देखते हुए रेस्टोरेंट, और मॉल जैसी सुविधाओं को फिर से शुरू करें। वहीं, महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने रेस्टोरेंट और बार खोलने का तो ऐलान कर दिया लेकिन राज्य में मंदिर अभी भी बंद रहेंगे। ऐसे में कंगना रनौत (Kangana Ranaut) ने महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधा है और न सिर्फ निशाना साधा है बल्कि उन्होंने उद्धव सरकार (Uddhav Government) को गुंडा भी कहा है।

कंगना ने साधा महाराष्ट्र सरकार पर निशाना
दरअसल, महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Governor Bhagat Singh Koshiyari) ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav Thackeray) को पत्र लिखकर मंदिर खोलने का आदेश देने को कहा। इसी पत्र को सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए कंगना रनौत ने महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधा। कंगना ने ट्वीट कर लिखा, जानकर अच्छा लगा कि गुंडा सरकार से माननीय राज्यपाल साहब सवाल कर रहे हैं, गुंडों ने बार और रेस्त्रां खोल दिए लेकिन रणनीति के तहत मंदिरों को अभी भी बंद रखा है। सोनिया सेना, बाबर की सेना से भी खराब बर्ताव कर रही है।

 

कोश्यारी ने लिखा पत्र
बता दें कि, महाराष्ट्र के राज्यपाल कोश्यारी ने उद्धव सरकार को लिखे पत्र में कहा था, 1 जून से आपने मिशन अगेन शुरू करने की घोषणा की थी, लेकिन अब चार महीने बीत जाने के बाद भी पूजा स्थल नहीं खोले जा सके हैं। कोश्यारी ने कहा, ‘यह विडंबना है कि एक तरफ सरकार ने बार और रेस्तरां खोले हैं, लेकिन दूसरी तरफ, देवी और देवताओं के स्थल को नहीं खोला गया है। आप हिंदुत्व के मजबूत पक्षधर रहे हैं। आपने भगवान राम के लिए सार्वजनिक रूप से अपनी भक्ति जाहिर की है।’

CM का राज्यपाल को जवाब
कोश्यारी ने अपने पत्र में आगे कहा था, ‘आपने आषाढ़ी एकादशी पर विट्ठल रुक्मणी मंदिर का दौरा किया था, क्या आपने अचानक खुद को सेक्युलर बना लिया है? जिस शब्द से आपको नफरत है?’ इसके जवाब में उद्धव सरकार ने कहा था, राज्य में कोविड-19 संबंधी हालात की पूरी समीक्षा के बाद धार्मिक स्थलों को पुन: खोलने का फैसला किया जाएगा। राज्य सरकार मंदिर खोलने के फैसले पर विचार कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *