Breaking News

नॉर्थ कोरिया अब तेरी खैर नहीं:: दक्षिण कोरिया ने लॉन्च की ‘सबमरीन-लॉन्च बैलिस्टिक मिसाइल’

दक्षिण कोरिया ने स्वदेशी सबमरीन-लॉन्च बैलिस्टिक मिसाइल का टेस्ट किया है. माना जा रहा है कि दक्षिण कोरिया परमाणु हथियारों से लैस उत्तर कोरिया से अपनी रक्षा के लिए अपनी सेना को ताकतवर बना रहा है. उत्तर कोरिया लंबे समय से सबमरीन-लॉन्च बैलिस्टिक मिसाइल तकनीक तैयार करने में लगा हुआ है. जनवरी में किम जोंग उन की देखरेख में हुई सैन्य परेड में इस तरह के चार डिवाइसों को दिखाया गया था.

वहीं, जब उत्तर कोरिया ने पानी के भीतर लॉन्च की तस्वारों को जारी किया, तो विश्लेषकों ने कहा कि ये पनडुब्बी के बजाय एक निश्चित प्लेटफॉर्म या सबमर्सिबल बार्ज से लॉन्च किया गया. दूसरी ओर, योनहाप ने अज्ञात सैन्य स्रोतों का हवाला देते हुए बताया कि दक्षिण कोरिया की ‘एजेंसी फॉर डेवलपमेंट’ ने पिछले हफ्ते SLBM के एक नए स्वदेशी वेरिएंट को 3000 टन वर्ग की पनडुब्बी से पानी के नीचे लॉन्च किया. SLBM देश की ह्यूनमू -2 बी बैलिस्टिक मिसाइल का एक नया वेरिएंट है. इसकी रेंज 500 किमी है. एक और दौर की टेस्टिंग के बाद इन्हें बड़े पैमाने पर तैयार किया जाएगा.

‘डिफेंस टेक्नोलॉजी एंड डेवलपमेंट’ पर दक्षिण कोरिया खर्च करेगा 1.3 बिलियन डॉलर
दक्षिण कोरिया SLBM को सफलतापूर्वक विकसित करने वाले गिने-चुने देशों में शामिल हो गया है. सियोल ने सोमवार को संसद को सौंपे गए बजट अनुरोध में अगले साल ‘डिफेंस टेक्नोलॉजी एंड डेवलपमेंट’ के लिए लगभग 1.5 ट्रिलियन वॉन (1.3 बिलियन डॉलर) आवंटित किए. इसको मंजूरी मिलने बाद ‘डिफेंस एक्यूजिशिन प्रोग्राम एडमिनिस्ट्रेशन’ के बजट में 76 फीसदी की वृद्धि होगी. इस पैसे का इस्तेमाल अत्याधुनिक और भविष्य की टेक्नोलॉजी को एक्टिव रूप से तैयार करने के लिए किया जाएगा. वहीं, उत्तर कोरिया भी अपनी सबमरीन फोर्स को तैयार करने में जुटा हुआ है.

परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बी तैयार कर रहा उत्तर कोरिया
जनवरी में किम जोंग उन ने सत्तारूढ़ वर्कर्स पार्टी की कांग्रेस को कहा कि उत्तर कोरिया ने परमाणु ऊर्जा से चलने वाली पनडुब्बी को तैयार करने का प्लान पूरा कर लिया है. हालांकि, इस तरह की पनडुब्बी को सर्विस में आने पर कई साल लगने की संभावना है. लेकिन विश्लेषकों का कहना है कि ये रणनीतिक रूप से गेम-चेंजर हो सकता है. दरअसल, इसकी मदद से उत्तर कोरिया पानी के भीतर से हमला कर सकता है, भले ही उसकी जमीनी सेना पूरी तरह से बर्बाद ही क्यों न हो गई हो. किम ने 2019 में एक नई पनडुब्बी का परीक्षण किया था. इस दौरान जारी की गई तस्वीरों में किम को एक विशाल जहाज के बगल में खड़ा देखा गया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *