Breaking News

ट्रांसपेरेंट पीपीई किट में अंडरगारमेंट्स पहन कर इलाज करने वाली नर्स सोशल मीडिया पर वायरल, देखें तस्वीरें

कुछ दिनों से रूस के एक अस्पताल के पुरुष कोरोना वार्ड में पारदर्शी पीपीई किट के नीचे अंडरगारमेंट्स पहने हुए एक महिला नर्स सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रही है। इस नर्स को रूस के ‘टू हॉट नर्स’ के रूप में भी जाना जाता है। वहीं अस्पताल ने महिला नर्स को सस्पेंड कर दिया है।

Hot' nurse gets support after suspension for exposing bra and panties

बता दें कि महिला नर्स के इस व्यवहार पर रूसी क्षेत्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अनुशासनात्मक कार्रवाई को मंजूरी दे दी थी। मंत्रालय ने एक बयान में बताया था कि नर्स ने यूनिफार्म के नियमों को तोड़ा है इसलिए उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी जिसके बाद रूसी क्षेत्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू कर दी और उक्त नर्स को निलंबित कर दिया।

हालांकि, अब रूसी नर्स और उनके सहयोगियों ने उन लोगों को उचित जवाब दिया है जिन्होंने इस तरह की तस्वीरें साझा कीं और सोशल मीडिया पर स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं का मजाक उड़ाया। वास्तव में, फोटो वायरल होने के बाद, दोनों नर्सों ने कहा कि वे बहुत गर्मी महसूस कर रही थीं, क्योंकि वे लगातार पीपीई सूट पहन कर और बिना ब्रेक लिये काम कर रहीं थी। हालांकि, उनकी प्रतिक्रिया के बावजूद सोशल मीडिया को निशाना बनाया गया था। अब कई राजनेता और व्यापारी इन नर्सों के पक्ष में आ गए हैं। कई रूसी अस्पतालों ने यह कहते हुए संदेश भेजे हैं कि लोगों के कपड़ों पर ऐसी टिप्पणी करना गलत है जो जान बचाने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल रहे हैं।

Russia Nurse stripped down to underwear suspended corona virus

नर्स नादिया ने कहा कि असहनीय गर्मी के कारण उन्होंने अपने नर्स गाउन को उतारने और अपने स्विमिंग सूट में काम करने का फैसला किया। वह उस दिन एक पंक्ति में 3 पारियों में काम कर रहीं थीं और उसने महसूस किया कि मरीजों की देखभाल जारी रखना अधिक महत्वपूर्ण है।

नादिया ने कहा कि जो लोग मेरे कपड़े देखकर असहज हैं उन्हें शर्म आनी चाहिए। जिस अस्पताल से नादिया काम करती है, वहीं से उसे निलंबित कर दिया गया है। हालांकि, इस अस्पताल के डॉक्टरों-नर्सों और अन्य चिकित्सा कर्मचारियों ने नादिया के पक्ष में कदम उठाया है। स्टाफ का कहना है कि स्थिति को समझने की बजाये कुछ ट्रोल्स की राय के आधार पर अस्पताल का फैसला पूरी तरह से गलत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *