Breaking News

ज्ञानवापी मस्जिद प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट में आज फिर से सुनवाई

ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Masjid) मामले में आज सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में फिर से सुनवाई होने वाली है। कल हुई सुनवाई को कोर्ट (Court) ने इसलिए टाल दिया था क्योंकि हिंदू पक्ष की ओर से वकील विष्णु जैन (Advocate Vishnu Jain) ने कोर्ट से अपना जवाब दाखिल करने के लिए समय मांगा था। आज शीर्ष न्यायालय में 3 बजे सुनवाई होगी। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को वाराणसी (Varanasi) की ट्रायल कोर्ट से भी कोई आदेश न देने का आदेश दिया था।

उल्‍लेखनीय है कि सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को वाराणसी की ट्रायल कोर्ट को नंदी के सामने बनी दीवार को न गिराने का आदेश दिया था। कोर्ट ने कहा कि मामले में फिलहाल कोई भी आदेश ना दिया जाए। वहीं शीर्ष न्यायालय ने वाराणसी कोर्ट में भी इस मामले की सुनवाई आज के लिए टालने को कहा था। दूसरी ओर मुस्लिम पक्ष ने सुनवाई टालने का विरोध किया था। उनका कहना था कि अगर सुनवाई टाली जाती है तो देश में कई और ऐसे मामले डाले जा सकते हैं।

कोर्ट में याचिका मुस्लिम पक्ष की ओर से डाली गई है। उनका कहना है कि मस्जिद में सर्वे कराने का कोई औचित्य नहीं है। वहीं हिंदू पक्ष ने भी आज इसपर अपना जवाब दाखिल कर दिया है। हिंदू पक्ष की ओर से वकील विष्णु जैन ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद एक मस्जिद नहीं है, क्योंकि मुगल सम्राट औरंगजेब ने इस भूमि पर किसी मुस्लिम या मुसलमानों के निकाय को जमीन सौंपने के लिए वक्फ बनाने का कोई आदेश पारित नहीं किया था।

 

इसके उत्‍तर में कहा गया है कि इतिहासकारों ने पुष्टि की है कि इस्लामिक शासक औरंगजेब ने 9 अप्रैल 1669 को एक आदेश जारी किया था जिसमें उनके प्रशासन को वाराणसी में भगवान आदि विशेश्वर के मंदिर को ध्वस्त करने का निर्देश दिया गया था। वहीं, वाराणसी कोर्ट की तरफ से नियुक्त स्पेशल असिस्टेंट कमिश्नर अजय प्रताप सिंह ने सर्वे रिपोर्ट ट्रायल कोर्ट में पेश कर दी है। सर्वे रिपोर्ट 10-15 पेज की है। रिपोर्ट पेश करने से पहले कोर्ट कमिश्नर विशाल सिंह ने बताया कि रिपोर्ट को सीलबंद लिफाफे में दिया गया है जिसमें वीडियो चिप भी दाखिल की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *