Breaking News

जॉनसन की भारत यात्राः ब्रिटेन बनेगा भारत का दूसरा बड़ा सहयोगी

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री (British Prime Minister) बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) की भारत यात्रा (India travel) वैसे तो कई मायनों में महत्वपूर्ण है, लेकिन रूस-यूक्रेन युद्ध (Russo-Ukraine War) के बीच हुई इस यात्रा में दोनों देशों के बीच रक्षा क्षेत्र में बनी सहमति बेहद अहम है। दोनों देशों ने संयुक्त रूप से रक्षा उपकरणों पर शोध करने, उन्हें विकसित करने एवं उत्पादन करने पर सहमति जताई है।

विशेषज्ञ इस समझौते को बेहद महत्वपूर्ण मान रहे हैं, क्योंकि अभी तक संयुक्त रूस से रक्षा तकनीकों का उत्पादन भारत रूस के साथ मिलकर करता है। ब्रिटेन के साथ इस प्रकार के समझौते से भविष्य में वह रूस के बाद भारत का दूसरा बड़ा सहयोगी बन सकता है। भारत के कई देशों के साथ रक्षा समझौते हैं। रक्षा खरीद भी की जाती है। लेकिन एकमात्र रूस ही ऐसा देश है, जिसके साथ मिलकर वह रक्षा सामग्री का उत्पादन भी करता है। इनमें ब्रहमोस मिसाइल और इंडो रशियन राइफल लिमिटेड प्रमुख उपक्रम हैं। यदि ब्रिटेन से हुआ समझौता आगे बढ़ता है तो भविष्य में इस प्रकार के उपक्रम भारत और ब्रिटेन द्वारा भी स्थापित किए जा सकते हैं।

उभरती सैन्य तकनीकें विकसित करेंगे
दोनों देशों द्वारा जारी संयुक्त बयान के अनुसार, ब्रिटेन का रक्षा विज्ञान एवं तकनीक प्रयोगशाला तथा भारत का डीआरडीओ मिलकर रक्षा तकनीकों के विकास के लिए शोध करेंगे और उभरती सैन्य तकनीकें विकसित करेंगे। दोनों देश संयुक्त रूप से उनका उत्पादन भी करेंगे, जिससे दोनों देशों के सशस्त्र बलों की जरूरतें पूरी होंगी। इसमें इलेक्ट्रिक प्रपल्सन को लेकर ज्वाइंट वर्किंग ग्रुप बनाने की भी बात कही गई है। यह तकनीक नौसेना के पोतों एवं पनडुब्बियों के निर्माण के लिए बेहद महत्वपूर्ण है।

दोनों देश समग्र रणनीतिक साझेदारी के लिए उभरती तकनीकें विकसित करने के अलावा आधुनिक लड़ाकू विमानों, जेट इंजन एडवांस्ड कोर टेक्नोलॉजी, रक्षा प्लेटफॉर्म, कल पुर्जे और अन्य कंपोनेंट बनाने के लिए भी काम करेंगे। ब्रिटेन की तकनीक और निवेश से इन रक्षा सामानों का देश में निर्माण होगा तो इससे भारत की जरूरतें पूरी होंगी और उसे दूसरे देशों को निर्यात भी किया जा सकेगा।

ब्रिटेन के विमान-पोतों के निर्माण कार्यक्रम में भी शिरकत कर सकेगा भारत
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री ने भारत के लिए रक्षा सामग्री को लेकर ओपन जनरल एक्सपोर्ट लाइसेंस का भी ऐलान किया है। इससे भारत को प्रौद्यौगिकी से जुड़ने का मौका मिलेगा तथा वह ब्रिटेन के विमानों एवं पोतों के निर्माण कार्यक्रम में भी शिरकत कर सकेगा।

ब्रिटेन के पास उच्च रक्षा प्रौद्योगिकी
रक्षा विशेषज्ञ लेफ्टिनेंट जनरल राजेंद्र सिंह के अनुसार, भारत-ब्रिटेन की यह साझेदारी दोनों के लिए महत्वपूर्ण है। यूरोपीय यूनियन से अलग होने के बाद जहां ब्रिटेन नये बाजार तलाश रहा है, वहीं भारत रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रयासरत है। साथ ही मेक इन इंडिया में ब्रिटेन की हिस्सेदारी महत्वपूर्ण साबित हो सकती है। ब्रिटेन दुनिया के उन शीर्ष देश देशों में शामिल है, जिनके पास उच्च रक्षा प्रौद्यौगिकी मौजूद है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *