Breaking News

अदार पुनावाला ने जो बाइडेन से की यह मार्मिक अपील, कोविशील्ड से दुनिया को बचाना है

कोरोना महामारी से दुनिया लड़ रही है। भारतीय वैक्सीन कम्पनियां लोगों की जिन्दगी बचाने में वैक्सीन बना कर भरपूर सहयोग कर रही हैं। इस बीच दुनिया में सबसे ज्यादा वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ अदार पूनावाला ने अमेरिकी राष्ट्रपति से मार्मिक अपील की है। उन्होंने अमेरिकी राष्ट्रपति से अमेरिका से निर्यात होने वाले कच्चे माल पर लगा प्रतिबंध हटाने की मांग की है।

उन्होंने कहा कि कच्चा माल उपलब्ध होने पर वैक्सीन के उत्पादन में तेजी आएगी। एसआईआई कोरोना की वैक्सीन कोविशील्ड का उत्पादन कर रही है। पूनावाला ने ट्वीट किया कि अमेरिका के राष्ट्रपति महोदय अगर हमें सही मायनों में इस वायरस को हराने में एकजुट होना है तो अमेरिका के बाहर की वैक्सीन इंडस्ट्री की तरफ से मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि अमेरिका से निर्यात होने वाले कच्चे माल पर लगी पाबंदी हटा दीजिए ताकि वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाया जा सके। आपके प्रशासन के पास इसकी पूरी डिटेल है। अडार ने इस विनम्र अनुरोध से कोरोना की लड़ाई में सहयोग मांगा है।

covishild

कोविशील्ड वैक्सीन बना रही एसआईआई
एसआईआई ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड का उत्पादन कर रही है। देश में सबसे पहले कोविशील्ड के आपात प्रयोग करने की मंजूरी मिली थी। ज्ञात हो कि इस वैक्सीन को कई देशों को निर्यात किया जा रहा है। एसआईआई दुनिया में सबसे ज्यादा वैक्सीन बनाती है। हाल में कुछ राज्यों में कोरोना वैक्सीन की कमी की शिकायत आई थी। महाराष्ट्र, पंजाब, राजस्थान सहित कई देशों ने केंद्र से कोविड-19 वैक्सीन की कमी की बात सामने आयी थी। कर्नाटक, ओडिशा और केरल के कई जिलों का कहना है कि उनके पास कोरोना वैक्सीन का भंडार तेजी से कम हो रहा है। हालांकि केंद्र ने कहा कि टीके की कोई कमी नहीं है।

बंद करना पड़ा है नोवावैक्स का उत्पादन
पूनावाला इससे पहले कई बात बता चुके हैं कि वैक्सीन बनाने के लिए उनके पास पर्याप्त कच्चा माल नहीं है। अमेरिका ने डिफेंस ऐक्ट को लागू किया है जिससे कच्चे माल के निर्यात पर रोक है। इससे वैक्सीन बनाने वाली कई कंपनियों को कच्चे माल की उपलब्धता नहीं हो पा रही है। उन्होंने वैक्सीन बनाने में काम आने वाले कच्चे माल पर पाबंदी को वैक्सीन पर प्रतिबंध के समान है। उनकी कंपनी नोवावैक्स कोरोना वायरस वैक्सीन भी बना रही है। पूनावाला का कहना है कि कच्चे माल की समस्या के कारण इस वैक्सीन का उत्पादन बंद हो गया है।

अमेरिका से क्या-क्या होता है आयात
पूनावाला ने कहा कि अमेरिका से जो कच्चा माल मंगाते हैं। उसमें फिल्टर्स, बैग्स, कुछ मीडिया सॉल्यूशंस आदि शामिल हैं। अंतिम क्षणों में नया सप्लायर खोजने में समय लगेगा। समस्या यह है कि कंपनी को अभी कच्चे माल की जरूरत है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *