Breaking News

Ukraine Crisis : क्वाड समूह के दबाव में नहीं आएगा भारत, पुराने रुख पर रहेगा कायम

जापान (Japan) में 24 मई को होने जा रही क्वाड बैठक (quad meeting) में रूस-यूक्रेन युद्ध (Russo-Ukraine War) पर भी चर्चा होगी। क्वाड के बाकी तीनों सदस्य अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया (America, Japan and Australia) हालांकि रूस के खिलाफ सख्त रुख अख्तियार किए हुए हैं, इसलिए कहा जा रहा है कि भारत (India) को एक बार फिर दबाव का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन भारत ने साफ संकेत दिए हैं कि वह अपने पुराने रुख पर आगे भी कायम रहेगा तथा अमेरिका या क्वाड सूमह के दबाव में बिल्कुल भी नहीं आएगा।

विदेश सचिव विनय मोहन क्वात्रा (Foreign Secretary Vinay Mohan Kwatra) ने कहा, भारत का रुख स्पष्ट है। हम यह आज से नहीं बल्कि जब से यह युद्ध शुरू हुआ है तभी से कह रहे हैं कि युद्ध तत्काल रुकना चाहिए। समस्या का समाधान वार्ता और कूटनीति से निकाला जाए। उन्होंने कहा कि निश्चित रूप से क्वाड में इस मुद्दे पर भी चर्चा होगी लेकिन इस पर हमारी नीति स्पष्ट है।

दरअसल, यह अटकलें लगाई जा रही थी कि बदलती भू राजनीतिक स्थितियों में क्वाड के मंच पर तीनों सदस्य देशों की ओर से भारत को यूक्रेन मुद्दे पर दबाव का सामना करना पड़ सकता है। इसी प्रकार यूक्रेन युद्ध के चलते ही उत्पन्न हुए गेहूं संकट और भारत के गेहूं के निर्यात को प्रतिबंधित करने से भी पश्चिमी देश खुश नहीं हैं। लेकिन इस मुद्दे पर भी भारत अपनी नीति में किसी प्रकार के बदलाव के पक्ष में नहीं दिख रहा है।

हिंद-प्रशांत क्षेत्र की चुनौतियों पर भी चर्चा
बैठक में हिंद-प्रशांत क्षेत्र की चुनौतियों और अवसरों पर चर्चा होगी। चुनौतियों के दायरे में चीन के आक्रामक रुख को लेकर भी बातचीत हो सकती है। दरअसल, चीन के साथ पिछले दो साल से पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर गतिरोध कायम है। 15 दौर की सैन्य वार्ता के बावजूद कई स्थानों से चीन पीछे नहीं हट रहा है। साथ ही वह कब्जे वाले क्षेत्र में लगातार पुलों का निर्माण कर रहा है। भारत चीन की आक्रामकता के मुद्दे को बैठक में उठा सकता है। इसके अलावा श्रीलंका की स्थिति को लेकर भी क्वाड में चर्चा होना तय माना जा रहा है।

मोदी जापान में दो दिनों में 23 कार्यक्रमों में लेंगे हिस्सा
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जापान में 24 मई को क्वाड शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेंगे। वह लगभग 40 घंटे के अपने जापान प्रवास के दौरान विश्व के तीन नेताओं के साथ बैठक समेत 23 कार्यक्रमों में शामिल होंगे।

आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। मोदी सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और ऑस्ट्रेलिया तथा जापान के प्रधानमंत्रियों के साथ शामिल होंगे। सूत्रों ने बताया कि मोदी अपनी यात्रा के दौरान 30 से अधिक जापानी सीईओ और सैकड़ों भारतीय प्रवासी सदस्यों के साथ बातचीत करेंगे। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री एक रात टोक्यो में बिताएंगे और दो रात विमान में यात्रा करेंगे।

जापान और अमेरिका के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे
यूक्रेन पर रूसी हमले के बीच हो रहे शिखर सम्मेलन के दौरान मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन और जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे। मोदी अपने ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष के साथ भी द्विपक्षीय बैठक करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *