Breaking News

Parle-G ने किया ये काम, लोगों ने जमकर की तारीफ, जानिए वजह

मुंबई पुलिस ने ‘टेलीविजन रेटिंग प्वाइंट’ (टीआरपी) से छेड़छाड़ करने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ करने का दावा किया है. इसके बाद प्रमुख विज्ञापनदाताओं और मीडिया एजेंसियों का कहना है कि वे इसपर बारीकी से नजर रख रहे हैं.


पारलेजी (Parle G) बिस्किट देश में सबसे ज्यादा बिकने वाले बिस्किट में से एक है. महामारी के दौरान इस बिस्किट की बिक्री ने नयी उंचाइयों को छुआ. सबका चहेता पारलेजी बिस्किट एक बार फिर चर्चा में है. कंपनी ने फैसला लिया है कि वह पारलेजी बिस्किट का टीवी पर ऐड नहीं करेगी. जिसके बाद से कंपनी के इस फैसले की सोशल मीडिया पर काफी सराहना हो रही है. कंपनी के सीनियर ऑफिसर कृष्णराव बुद्ध ने इस बात की जानकारी देते हुए बताया कि कंपनी समाज में जहर घोलने वाले कंटेट दिखाने वाले न्यूज़ चैनलों पर विज्ञापन नहीं देगी.

उन्होंने कहा, ‘हम कोशिश कर रहे हैं कि सभी विज्ञापनकर्ता एक साथ आएं और न्यूज चैनलों पर कम से कम ऐड दें ताकि सभी चैनलों को यह मैसेज मिले कि उन्हें अपने कंटेट में बदलाव लाना होगा.’ वहीं पारलेजी से पहले बजाज ऑटो के प्रबंध निदेशक राजीव बजाज ने कहा था कि उनकी कंपनी ने तीन न्यूज चैनलों को ब्लैकलिस्ट कर दिया है.

कंपनी के इस फैसले की सोशल मीडिया पर लोग काफी तारीफ कर रहे हैं. ट्विटर पर लोग इस बारे में कमेंट कर रहे हैं और अपने रिएक्शन भी दे रहे हैं. एक यूजर ने कहा, ‘ये देश के लिए अच्छा है.’ किसी ने लिखा, ‘बेहतरीन पहल.’ तो किसी ने कंपनी को सपोर्ट करते हुए कहा कि ‘बहुत अच्छा, ज्यादा से ज्यादा कंपनियों को इस रास्ते पर चलना चाहिए.’ एक शख्स ने कहा, ‘यह सिर्फ शुरुआत हो सकती है, उम्मीद है कई कंपनियां ऐसा करेंगी और हमें एक पॉजिटिव चेंज देखने को मिलेगा.’ क्या होती है टीआरपी टीआरपी से यह पता चलता है कि कौन सा टीवी कार्यक्रम सबसे ज्यादा देखा गया। इससे दर्शकों की पसंद और किसी चैनल की लोकप्रियता का भी पता चलता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *