Breaking News

DSP हत्याकांड पर चश्मदीद ने बयां की आंखों देखी, तो विपक्ष ने सरकार को घेरा

नूंह में खनन माफिया द्वारा डीएसपी (DSP) की हत्या किए जाने के बाद हरियाणा के विपक्षी दलों (Haryana’s opposition parties) ने सरकार को घेर लिया है। विपक्ष ने सरकार पर मामले की लीपापोती (daub) का आरोप लगाते हुए प्रदेश में हो रहे अवैध खनन के मुद्दे पर सरकार को कठघरे में खड़ा किया है।

हरियाणा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Bhupendra Singh Hudda) ने कहा कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था पूरी तरह से चौपट हो चुकी है। मौजूदा सरकार के राज में आम आदमी, विधायक व अधिकारी कोई सुरक्षित नहीं है। बार-बार मांग के बावजूद सरकार खनन माफिया पर कड़ी कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है।

दूसरी तरफ इस पूरी घटना के संबंध में एक पुलिसकर्मियों का मानना है कि डीएसपी सुरेंद्र सिंह के नेतृत्व में SHO थाना सदर तावडू, ASI संजय कुमार, अंगरक्षक उमेश कुमार और गाड़ी चालक सरकारी गाड़ी से (संख्या- HR2708) अवैध खनन को रोकने पहुंचे तो पहाड़ पर 6 टायर वाला डंपर अवैध खनन के जरिए पत्थरों से भरा हुआ दिखाई दिया। इसी दौरान DSP सुरेंद्र बिश्नोई के आदेश पर उनकी गाड़ी चला रहे चालक ने डंपर का पीछा किया जिसमें कोई नंबर प्लेट नहीं लगी हुई थी!  डंपर चालक और उसमें बैठे तीन-चार युवक पहाड़ी पर चढ़ गए।
पुलिसकर्मियों ने बताया कि हमारी गाड़ी भी रुक गई और DSP साहब गाड़ी से उतर कर डंपर चालक और अन्य लड़कों को पकड़ने के लिए डंपर के बराबर में पहुंचे!

इस दौरान उन्होंने देखा कि डंपर के आगे नंबर प्लेट पर HR4A लिखा हुआ था और अन्य नंबर गायब थे। टनास्थल पर मौजूद पुलिसकर्मियों के अनुसार डंपर में मौजूद लोगों ने कहा, इन पुलिसवालों को गाड़ी रोकने का सबक सिखा दो. इतने में ही ड्राइवर जिसका नाम मित्तर कहा जा रहा था, उसने हमें जान से मारने की नीयत से सीधा डंपर हमारे ऊपर चढ़ाने की कोशिश की। पुलिसकर्मी ने बताया, मैंने और उमेश कुमार ने एकदम छलांग लगाकर अपनी जान बचाई और DSP साहब ने भी कूदने का प्रयास किया लेकिन डंपर चालक ने स्पीड बढ़ाकर जानबूझकर DSP साहब को टक्कर मार दी और उन्हें रौंदकर हत्या कर दी।

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं राज्यसभा सांसद रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि यमुनानगर में यमुना, डाडम भिवानी में अवैध खनन के कारण पहाड़ दरकने से मौत की घटना हो या नूंह में डीएसपी की हत्या, खनन माफिया बेखौफ हो चुका है। सरकार की खनन माफिया से सांठगांठ जारी है। प्रदेश के खजाने व खनिज संपदा की लूट निरंतर जारी है।

सुरजेवाला ने कहा कि नूंह में डीएसपी की हत्या की हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश की निगरानी में जांच करवाई जाए। एक माह के भीतर माफिया व सफेदपोशों की मिलीभगत को बेनकाब किया जाए। केवल छुटभैया कारिंदा को गिरफ्तार कर खानापूर्ति न की जाए।

इनेलो विधायक अभय चौटाला ने कहा कि एक पुलिस अधिकारी की दिनदहाड़े हत्या का मतलब पूरे प्रदेश में गुंडाराज है। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश में अवैध खनन माफियाओं को सरकार का संरक्षण प्राप्त है। सरकार प्रदेश को संभालने में पूरी तरह से असफल साबित हुई है।

कांग्रेस कार्यसमिति की सदस्य एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कुमारी सैलजा ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था का जनाजा निकल चुका है। हरियाणा की भाजपा-जजपा सरकार पूरी तरह से फेल साबित हो चुकी है। नूंह जिले के तावडू में खनन माफिया द्वारा डीएसपी के ऊपर डंपर चढ़ाकर हत्या कर दी गई। यह वारदात हरियाणा में ध्वस्त हो चुकी कानून व्यवस्था का एक और बड़ा उदाहरण है।

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष उदयभान ने कहा कि हरियाणा में अवैध खनन व्यापार बन चुका है। सरकार कोई सुध नहीं ले रही है। यह पहली घटना नहीं है। मुख्यमंत्री को खुद सार्वजनिक रूप से इसका जवाब देना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *