Breaking News

स्वतंत्रता दिवस से पहले हाई अलर्ट पर दिल्ली, मेट्रो से लेकर मॉल तक कड़ी जांच; चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात

देश में 75वें स्वतंत्रता दिवस को मनाने की तैयारियों के बीच आतंकी हमले के खुफिया अलर्ट पर दिल्ली पुलिस समेत सुरक्षा एजेंसियां चौकन्नी हैं। 10 पन्नों की खुफिया रिपोर्ट में खास तौर से ड्रोन की मदद से मैग्नेट बम (स्टिकी बम) को सुरक्षा एजेंसियों के वाहनों पर चिपकाकर धमाका करने की आशंका जताई गई है। साथ ही लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे कुख्यात आतंकी संगठन के सक्रिय होने की बात कही गई है

इसके मद्देनजर चप्पे-चप्पे पर पुलिस की तैनाती करते हुए ड्रोन पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। खुफिया इकाइयों का मानना है कि आतंकी मैगनेट बम का इस्तेमाल कर सकते हैं। वे वाहन में मैगनेट बम (स्टिकी बम) जैसे विस्फोटक चिपका सकते हैं, जो ड्रोन की मदद से पहुंचाए जा सकते हैं। इस अलर्ट के बाद एंटी-ड्रोन डिटेक्शन सिस्टम की लाल किले पर तैनाती कर दी गई है।

साथ ही ड्रोन हमले की आशंका के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने हवा में उड़ने वाली चीजों पर रोक लगाने के साथ ही सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दी है। इसके तहत पैरा-ग्लाइडर, पैरा-मोटर्स, हैंग ग्लाइडर, यूएवी, यूएएस, माइक्रोलाइट एयरक्राफ्ट, रिमोट से चलने वाले विमान, हॉट एयर बैलून, छोटे आकार के बैटरी से चलने वाले एयरक्राफ्ट, क्वाडॉप्टर्स और पैरा जंपिंग उड़ान पर प्रतिबंध लागू रहेगी। लालकिला के आसपास ड्रोन के संचालन पर पूरी तरह प्रतिबंध है।

यहां सुरक्षा के विशेष इंतजाम 

आर्मी पोस्ट, ऐतिहासिक इमारत, धार्मिक और आर्थिक महत्व के भवन, भीड़भाड़ वाले बाजार, मेट्रो, रेलवे स्टेशन, बसअड्डे और एयरपोर्ट खास तौर पर आतंकियों के निशाने पर हो सकते हैं। खुफिया रिपोर्ट में विशेष रूप से सार्वजनिक स्थानों की सुरक्षा बढ़ाने पर बल दिया गया है। लिहाजा, प्रमुख धरोहरों और स्थानों की सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए गए हैं।

उत्तरी दिल्ली में पुलिस जांच

पुराना लोहा का पुल जैसे ही खत्म होता है, लोगों को एक बार फिर जांच का सामना करना पड़ता है। खास तौर से जो लोग यमुनापार के सीमावर्ती इलाकों से दिल्ली में प्रवेश करते हुए उत्तरी दिल्ली में जा रहे हैं, उनकी दोबारा जांच हो रही है। यहां से यमुना बाजार और राजघाट के लिए जो रास्ता निकलता है, वहां बैरिकेड लगाकर जांच की जा रही है। ऐसे में अगर कोई शख्स गाजियाबाद की सीमा से दिल्ली में प्रवेश करता है तो उसे पहले यमुनापार के उत्तर-पूर्वी जिले में जांच से होकर गुजरना पड़ रहा है। वहीं अगर वह लोहा का पुल से होते हुए उत्तरी दिल्ली में प्रवेश करता है तो उसे दूसरी बार यहां भी जांच का सामना करना पड़ रहा है। जांच के बाद ही किसी को आगे बढ़ने दिया जा रहा है।

दोहरी जांच से मेट्रो स्टेशन पर कतार

मेट्रो स्टेशन के प्रवेश द्वार पर दोहरी जांच की जा रही है। इसके चलते खास तौर पर पीक समय में कतार लग रही है और लोगों को प्रवेश के लिए इंतजार करना पड़ रहा है। नवादा मेट्रो स्टेशन पर मेटल डिटेक्टर डोर में घुसने से पहले एक सुरक्षाकर्मी लोगों की गहराई से जांच कर रहा है। इसके बाद अंदर उसी व्यक्ति की दोबारा जांच की जा रही है। दोहरी जांच के चलते लोगों की कतार लग रही है और उन्हें अपनी बारी के लिए इंतजार करना पड़ रहा है।

खड़े होने की वजह पूछ रहे जवान

लालकिला पर सुरक्षा का सबसे कड़ा पहरा है। यहां बैरिकेड लगातार लालकिले के पिछले हिस्से की तरफ जाने वाली सड़क को बंद कर दिया गया है। तंबू लगाकर अर्धसैनिक बलों के जवानों को अत्याधुनिक हथियारों के साथ तैनात किया गया है। पास में ही पीसीआर की एक वैन है। अगर कोई कुछ मिनट भी खड़ा हो रहा है तो संदेह होने पर उससे वजह पूछी जा रही है।

जांच के बाद ही मॉल, मार्केट में मिल रहा प्रवेश

विवेक विहार में सूरजमल विहार स्थित क्रॉस रिवर शॉपिंग मॉल और पास के मार्केट के बाहर पुलिसकर्मी बैरिकेड लगाकर जांच कर रहे हैं। सीमावर्ती इलाका होने के कारण यहां भी लोगों को दिल्ली की ओर आने से पहले कड़ी जांच के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा है। साथ ही मॉल के अंदर घुसने के पहले और मुख्य द्वार पर कड़ी सुरक्षा जांच हो रही है। सूरजमल विहार मार्केट के बाहर बैरिकेड लगे होने के चलते लोगों को जाम का भी सामना करना पड़ा रहा है। यहां सड़क किनारे खड़े वाहनों के चलते जाम की समस्या बढ़ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *