Breaking News

‘सर तन से जुदा’ का मैसेज और PFI लोगो, दिल्ली के पूर्व फौजी ने खुद रची थी अपने फर्जी अपहरण की कहानी

राजधानी दिल्ली के प्रेम नगर इलाके से कथित तौर पर अगवा हुए 60 वर्षीय एक रिटायर्ड फौजी ने खुद ही अपने अपहरण की झूठी कहानी रची थी। क्राइम ब्रांच ने सराय रोहिल्ला रेलवे स्टेशन से उसे सकुशल ढूंढ निकाला है।

पुलिस की जांच में खुलासा हुआ है कि, पूर्व फौजी राजेंद्र प्रसाद ने खुद पर कर्ज होने के कारण यह कहानी रची थी। उसने अपने फोन से ‘सर तन से जुदा, अजमेर वाया पाकिस्तान’ का वॉट्सऐप मैसेज और पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया के झंडे व कुछ क्लिपिंग का फोटो लगा हुआ मैसेज घर पर भेजा था।

सुल्तानपुरी इलाके के रहने वाले राजेंद्र प्रसाद के परिवार ने 7 नवंबर को गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की और आखिरकार राजेंद्र प्रसाद को दिल्ली के सराय रोहिल्ला रेलवे स्टेशन पर पाया।

पूछताछ करने पर राजेंद्र ने बताया कि वह अपने परिवार और आर्थिक समस्याओं को लेकर तनाव में था, इसलिए वह घर से दूर रहना चाहता था। उसने यह भी स्वीकार किया कि उसने खुद ही अपने फोन से अपने परिवार को धमकी भरे मैसेज भेजे थे।

सिक्योरिटी गार्ड के पद पर करते हैं काम

राजेंद्र प्रसाद की छोटी बेटी गुलशन ने बताया कि उसके पिता संविदा पर प्रेम नगर स्थित सर्वोदय कन्या विद्यालय में सिक्योरिटी गार्ड के पद पर तैनात हैं। सोमवार को सुबह करीब 6:30 बजे घर से स्कूल के लिए निकले थे। वह हमेशा दो-ढ़ाई बजे तक घर लौट आते थे, लेकिन सोमवार को शाम तक घर नहीं लौटे। इसके बाद राजेंद्र प्रसाद के दामाद अश्विनी कुमार स्कूल गए तो पता लगा कि वह छुट्टी होने के तुरंत बाद ही चले गए थे। इसके बाद परिजनों ने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने गुलशन की शिकायत पर एफआईआर दर्ज कर ली है।

संगठन में शामिल होने का बना रहे थे दबाव

शिकायत में छोटी बेटी गुलशन ने बताया था कि कुछ लोग उसके पिता को संगठन में शामिल होने के लिए दबाव बना रहे थे। गुलशन के अनुसार करीब 15-20 दिन पहले पिता ने उसे यह जानकारी दी थी। साथ ही यह भी बताया था कि यह संगठन धर्म विशेष से जुड़े लोगों का है।

वॉट्सऐप पर पत्नी को मिली थी धमकी

एफआईआर के अनुसार, जब परिजनों ने राजेंद्र प्रसाद के मोबाइल नंबर पर फोन किया तो कोई जवाब नहीं मिला। फिर थोड़ी देर बाद पत्नी के वॉट्सऐप नंबर पर मैसेज आया, जिसमें ‘सर तन से जुदा’ करने की धमकी मिली। जब परिजनों ने मैसेज आने वाले नंबर की वॉट्सऐप प्रोफाइल फोटो देखी तो उस पर पीएफआई लिखा हुआ था। परिजनों ने इसके बाद पुलिस को यह सारी जानकारी दे दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *