Breaking News

शादीशुदा लोगों को मिलेगा दोगुना मुनाफा, Post Office दे रहा जल्दी पैसा डबल करने का मौका, जाने पूरी स्कीम

अगर आप निवेश का कुछ ऐसा विकल्प खोज रहे हैं, जिसमें हर महीने इनकम की गारंटी मिले तो पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम अकाउंट (POMIS) बेहतर योजना हो सकती है. शादीशुदा लोगों को इस स्कीम में दोगुना मुनाफा मिलता है. इसमें सिंगल और ज्वॉइंट अकाउंट खोलने की सुविधा मिलती है. सिंगल निवेशकों को हर महीने कम से कम 2475 रुपए या 29,700 रुपए सालाना इनकम की गारंटी मिलती है जबकि ज्वाइंट अकाउंट में यह मुनाफा दोगुना हो जाता है.
POMIS अकाउंट में अगर सिंगल अकाउंट खोलते हैं तो एकमुश्त 4.5 लाख रुपए जमा करना होता है. वहीं, ज्वॉइंट अकाउंट के जरिए अधिकतम 9 लाख रुपए जमा कर सकते है. इसमें 6.6 फीसदी सालाना ब्याज के हिसाब से जो रकम पूरे साल में बनती है, उसे 12 महीनों में बांट दिया जाता है. हर महीने की रकम आपकी मंथली इनकम होती है. स्कीम की मैच्योरिटी 5 साल की है, लेकिन आगे रीइन्वेस्टमेंट के तहत 5-5 साल के लिए इसे बढ़ाया जा सकता है.

कैसे खुलवाएं MIS अकाउंट
आप अपने नजदीक के पोस्ट ऑफिस में जाकर अपना MIS अकाउंट खोल सकते हैं. POMIS का फार्म भरते समय आपको पहचान पत्र, रेजिडेंशियल प्रूफ, 2 पासपोर्ट साइज के फोटो की जरूरत होगी. फार्म भरते समय आपको एक गवाह यानी विटनेस की भी जरूरत होगी. फॉर्म के साथ अकाउंट खोलने के लिए तय रकम के लिए कैश या चेक जमा करें.

कितना मिलता है ब्याज

> पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम (POMIS) में 6.6 फीसदी सालाना ब्याज मिलता है.

> ब्याज खोलने की तारीख से एक महीने के पूरा होने पर और मैच्योरिटी तक देय होगा.

>> अगर खाताधारक द्वारा हर महीने देय ब्याज का दावा नहीं किया जाता है, तो इस तरह के ब्याज से कोई अतिरिक्त ब्याज नहीं मिलेगा.

> जमाकर्ता द्वारा किए गए किसी भी अतिरिक्त जमा के मामले में, अतिरिक्त जमा को वापस कर दिया जाएगा और केवल PO बचत खाता ब्याज, खाता खोलने की तारीख से वापसी की तारीख तक लागू होगा. ब्याज एक ही पोस्ट ऑफिस में बचत खाते में ऑटो क्रेडिट के माध्यम या ECS से निकाला जा सकता है.

>> जमाकर्ता को मिला ब्याज टैक्सेबल है.

प्री-मैच्योर खाता बंद करने के नियम

> जमा की तारीख से 1 वर्ष की समाप्ति से पहले कोई जमा राशि वापस नहीं ली जा सकती है.

>> अगर खाता खोलने के 1 वर्ष से पहले और 3 साल से पहले खाता बंद किया जाता है, तो मूलधन में से 2% के बराबर कटौती की जाएगी और शेष राशि का भुगतान किया जाएगा.

> अगर खाता खोलने की तारीख से 3 साल बाद और 5 साल से पहले खाता बंद हो जाता है, तो मूलधन में से 1% के बराबर कटौती की जाएगी और शेष राशि का भुगतान किया जाएगा.

> संबंधित पोस्ट ऑफिस में पास बुक के साथ निर्धारित आवेदन पत्र जमा करके समय से पहले खाता बंद किया जा सकता है.

हर साल मिलेंगे करीब 60 हजार रुपए

सिंगल अकाउंट के जरिए पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम में कम से कम 4.5 लाख रुपये जमा कर सकते हैं. 6.6 फीसदी सालाना ब्याज दर के हिसाब से इस रकम पर कुल ब्याज 29,700 रुपए होगा. ब्याज दर के हिसाब से इस रकम पर कुल ब्याज 29,700 रुपए होगा. वहीं, इस स्कीम में ज्वॉइंट अकाउंट के जरिए 9 लाख रुपए अधिकतम जमा किया जा सकता है. ब्याज दर के हिसाब से इस रकम पर कुल ब्याज 59,400 रु रुपए होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *