Breaking News

ये हैं दुनिया के 5 ऐसे खतरनाक अपराधी, कोर्ट ने सुनाई थी सैकड़ों साल की सजा

आप सभी ने अभी तक यही जाना होगा की इंसान की औसत आयु 60 साल की होती है, लेकिन अगर किसी अपराधी को अदालत द्वारा हजारों-लाखों साल की सजा सुना दी जाए, तो ये सुनकर आपको हैरानी तो जरूर होगी। हम आपको आज कुछ ऐसे ही अपराधियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें उनके अपराध के लिए कोर्ट की तरफ से हजारों-लाखों साल की सजा सुना दी गई है।

थाईलैंड की चमोए थिप्यासो नाम की महिला सबसे लंबी जेल की सजा पाने वालों में से एक मानी जाती है। उसे साल 1989 में कोर्ट ने 1,41,078 साल की सजा सुनाई थी। उसे एक पिरमिड स्कीम में 16,231 लोगों के लगभग 19 करोड़ रुपये का चूना लगाने का दोषी पाया गया था। बाद में थाईलैंड में एक कानून पास हुआ कि धोखाधड़ी के मामले में अपराधी को कितनी भी लंबी सजा क्यों न सुनाई गई हो, उसे 20 साल से अधिक जेल में नहीं रख सकते।

दूसरा मामला स्पेन के 22 वर्षीय पोस्टमैन गैब्रीअल मार्च ग्रनाडोस को साल 1972 में 3,84,912 साल की सजा सुनाई गई थी। उसे 40 हजार से अधिक लेटर और पार्सल डिलिवर न करने का दोषी पाया गया था। कोर्ट ने हर पत्र और पार्सल के बदले उसे 9-9 साल की सजा सुना दी थी। बाद में उसकी लाखों साल की ये सजा कम करके 14 साल कर दी गई थी।

साल 1994 में एलन वेन मैकलॉरिन नाम के व्यक्ति को कई मामलों में दोषी करार दिया गया था और उसे कुल 21,250 साल की सजा मिली थी। एलन को रेप के चार मामलों में कुल आठ हजार साल, जबरन अप्राकृतिक संबंध बनाने के चार मामलों में आठ हजार साल, अपहरण के केस में 1750 साल, हथियार से हमले के केस में 1500 साल और लूटपाट के कुछ मामलों में 500-500 साल की सजा सुनाई गई थी। एलन के साथी को भी कोर्ट ने कुल 11,250 साल की सजा सुना दी थी।

स्पेन के मैड्रिड में साल 2004 में हुए ट्रेन विस्फोटों में शामिल आतंकियों में से एक आतंकी ऑथमैन अल नाओई को कोर्ट ने 42,924 साल की सजा सुना दी थी, वहीं उसके साथी जमाल जोउगम को 42,922 साल की सजा हुई थी। हालांकि स्पैनिश कानून के अनुसार किसी को भी 40 साल से अधिक जेल में नहीं रख सकते हैं।

साल 1994 में अमेरिकी राज्य अल्बामा के रहने वाले चार्ल्स स्कॉट रॉबिन्सन नाम के व्यक्ति को कोर्ट ने रेप के केस में कुल 30 हजार साल की सजा सुना दी थी। उसे कुल छह मामलों में 5-5 हजार साल की सजा सुनाई गई थी। जज ने बताया कि वह उसे बिना परोल के उम्रकैद की सजा नहीं दे सकते थे, इसी कारण उन्होंने इतनी लंबी सजा सुनाई, जिससे वह अपनी बाकी की लाइफ जेल में ही बिताए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *