Breaking News

यदि घर में कर रहे शिवलिंग की स्थापना तो इन बातों का जरूर रखें ध्यान, नहीं तो होगी बहुत समस्यां

देश में भारी संख्या में शिव भक्त है, वही शिवपुराण में शिवलिंग की उपासना की खास अहमियत बताई गई है। अगर नियमित तौर पर शिवलिंग की आराधना की जाए तो ईश्वर बेहद शीघ्र खुश होते हैं तथा सभी मनोकामनाओं को पूरा करते हैं। कुछ व्यक्ति शिवलिंग को घर में भी रखते हैं। किन्तु घर में शिवलिंग रखने के कुछ नियम हैं, जिनके बारे में अक्सर व्यक्तियों को पता नहीं होता है। यदि शिवलिंग से जुड़े इन नियमों का ख्याल न रखा जाए तो इसे घर में रखने से आपकी समस्यां बढ़ सकती है। जानिए क्या है वे नियम…

1. घर में कभी भी बड़े शिवलिंग की स्थापना नहीं करनी चाहिए। इसका आकार आपके हाथ के अंगूठे के ऊपर वाले पोर से अधिक बड़ा नहीं होना चाहिए।
2. अगर घर में शिवलिंग रखा है, तो उसकी प्राण प्रतिष्ठा न करवाएं। किन्तु नियमित तौर पर उसकी आराधना तथा अभिषेक अवश्य करें।

3. शिवपुराण में बताया गया है कि घर में कभी एक से अधिक शिवलिंग नहीं रखे जाने चाहिए। इसलिए यदि आपके घर में एक से अधिक शिवलिंग हैं तो इसे तुरंत हटा दें। किसी ज्योतिषी से सुझाव लेकर इसे किसी मंदिर में पहुंचा दें अथवा नदी में प्रवाहित कर दें।

4. शिवलिंग की साफ-सफाई का खास ध्यान रखना चाहिए। एक बर्तन में शुद्ध जल भर कर उसमें शिवलिंग रखें तथा इसका नियमित तौर पर अभिषेक करें।

5. अगर घर में धातु का शिवलिंग है तो ये केवल सोने, चांदी अथवा ताम्बे से बना होना चाहिए। इस पर एक नाग भी लिपटा होना चाहिए।

6. नर्मदा नदी के पत्थर से बना शिवलिंग बहुत शुभ माना जाता है। इसके अतिरिक्त पारद शिवलिंग को घर में रखना भी उचित होता है।

7. जिस स्थान पर शिवलिंग रखा हो, उसके समीप शिव जी के परिवार की एक तस्वीर अवश्य लगवाएं। शिवलिंग को कभी भी अकेला न रखें।

8. शिवलिंग हो अथवा शिव की कोई अन्य फोटो, हमेशा याद रखें कि शिव जी पर केतकी के फूल, तुलसी, सिंदूर तथा हल्दी कभी नहीं चढ़ानी चाहिए।

9. घर में शिवलिंग को हमेशा पूजाघर में ही रखना चाहिए। किसी दंपति के बेडरूम में तो बिलकुल नहीं रखना चाहिए। साथ ही ये जगह खुला होना चाहिए। इससे उस जगह पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है।

10. कहा जाता है कि शिवलिंग से हर समय ऊर्जा का संचार होता है इसलिए शिवलिंग पर हमेशा जलधारा रखनी चाहिए। इससे ऊर्जा शांत होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *