Breaking News

महादेव का अनोखा मंदिर, जहां पत्थरों को थपथपाने पर आती है डमरू की आवाज

भारत एक हिन्दू बहुल देश है, जिस वजह से यहाँ मंदिरो की कोई कमी नहीं है | हमारे देश में कई प्राचीन और रहस्यों से भरे हुए मंदिर है | कई मंदिरो की शोभा तो ऐसी है, जिसे देखकर हर कोई अभिभूत हो जाता है | इतना ही नहीं कई मंदिर तो ऐसे है, जिन्हे चमकत्कारी होने का दर्जा प्राप्त है | आज हम आपको एक ऐसे मंदिर के बारे में बताने जा रहे है, जहाँ के पत्थरो को थपथपाने पर डमरू बजने जैसी आवाज आती है | इतना ही नहीं इस मंदिर को एशिया का सबसे ऊँचा शिव मंदिर भी बताया जाता है |
ये मंदिर देवभूमि यानी हिमाचल प्रदेश के सोलन में स्थित है | इस मंदिर को जटोली शिव मंदिर के नाम से जाना जाता है | कला का बेजोड़ नमूना कहे जाने वाला ये मंदिर दक्षिण द्रविड़ शैली में बना है | बता दे इस मंदिर की ऊंचाई 111 फ़ीट है |
इस मंदिर को लेकर मान्यता प्रचलित है कि इस स्थान पर स्वयं महादेव कुछ समय के लिए रहे थे | साल 1950 के दशक में स्वामी कृष्णानंद परमहंस नाम के बाबा यहाँ आये थे | फिर साल 1974 में उन्होंने इस मंदिर की नींव रखी, इसके बाद 1983 में उन्होंने समाधी ले ली | लेकिन मंदिर का निर्माण कार्य चलता रहा, मंदिर का निर्माण कार्य मंदिर प्रबंधन कमेटी की देखरेख में हुआ |
जानकारी के अनुसार इस मंदिर को बनने में 39 वर्षो का समय लगा | इस मंदिर का निर्माण देश विदेश के श्रद्धालुओं द्वारा दिए गए दान की धनराशि से हुआ है |
इस मंदिर के चारो ओर सभी देवी देवताओ की मूर्तियां स्थापित है | साथ ही मंदिर के अंदर मौजूद शिवलिंग पर स्फटिक की मणि स्थापित है | इसके अलावा माँ पार्वती और महादेव की मूर्तियां भी यहाँ स्थापित है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *