Wednesday , September 28 2022
Breaking News

महबूबा मुफ्ती ने घाटी में स्कूली बच्चों से भजन गवाने पर जताई नाराजगी, बताया हिंदुत्व का एजेंडा

श्रीनगर । घाटी (valley) में पिछले कुछ दिनों से धर्म गुरुओं और उलेमाओं की कथित भड़काऊ बयानबाजी के आधार पर हुई गिरफ्तारी पर पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने नाराजगी व्यक्त की। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल (Twitter handle) पर किए गए ट्वीट में लिखा, धार्मिक विद्वानों को जेल में डालना, जामा मस्जिद को बंद करना और यहां स्कूली बच्चों (school children) को हिंदू भजन (Hindu Bhajan) गाने के लिए निर्देशित करना कश्मीर (Kashmir) में भारत सरकार के वास्तविक हिंदुत्व एजेंडे को उजागर करता है।

इन आदेशों को नकारना पीएसए और यूएपीए को आमंत्रित करता है। यह वह लागत है जो हम इस तथाकथित बदलता जम्मू-कश्मीर के लिए चुका रहे हैं। दरअसल महबूबा की यह प्रतिक्रिया सोशल मीडिया पर गवर्नमेंट हाई स्कूल नागाम (कुलगाम) के एक वायरल वीडियो को लेकर सामने आई जिसमें शिक्षक बच्चों को महात्मा गांधी के लोकप्रिय भजन रघुपति राघव राजा राम… सिखा रहे थे।

महबूबा ने यह भी कहा, उसका क्या हुआ ‘लप्पे आती है दुआ बनके तमन्ना मेरी, जिंदगी शम्मा की सूरत है खुदाया मेरी’ उसमें क्या बुराई थी। उसमें तो किसी मजहब का जिक्र नहीं था। उसे बंद किया और अब भजन गाने को कह रहे हैं।

भजन की हम कद्र करते हैं, इज्जत करते हैं लेकिन मुसलमान बच्चों से भजन गवाना…। मेरा उनसे सवाल है कि वो करना क्या चाहते हैं। उन्होंने कहा कि आप लोग गोडसे की पूजा करते हो जिसने गांधी जी की हत्या की। हमें गांधी जी का पाठ क्यों पढ़ाते हो। हम गांधी जी को जानते हैं और मानते भी हैं।

धर्म गुरुओं की गिरफ्तारी के खिलाफ श्रीनगर में पीडीपी का प्रदर्शन
घाटी में धर्म गुरुओं की गिरफ्तारी के खिलाफ पीडीपी ने सोमवार को श्रीनगर में विरोध प्रदर्शन किया। पार्टी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के सलाहकार सुहेल बुखारी की अगुवाई में पार्टी कार्यकर्ताओं ने श्रीनगर में पार्टी मुख्यालय से रैली निकालने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें आगे बढ़ने नहीं दिया।

सुहेल बुखारी ने कहा कि दिल्ली में बैठी केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर के लोगों के अधिकार छीनने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है। पहले हमारे विशेष अधिकार गैर कानूनी तरीके से छीने गए और अब यह हमारी अर्थव्यवस्था को बिगाड़ने में लगे हुए हैं।

बुखारी ने कहा कि सरकार चाहती है कि जम्मू-कश्मीर के लोगों की कमर टूट जाए और उनका ध्यान भटकाया जा सके। यही कारण कि वह बागवानी से जुड़े मुद्दों को सुलझाने में ध्यान नहीं दे रही।

उन्होंने कहा कि हफ्तों से सेब से लदे ट्रक हाईवे पर फंसे हुए हैं। हम चाहते हैं कि सरकार इस तरफ ध्यान दे और सबसे पहले हाईवे पर सेब से लदे ट्रकों को न रोका जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *