Breaking News

मतदान कल, पहले चरण के उम्मीदवारों को सता रहा हारने का डर, कोरोना में मुश्किल है बंपर वोटिंग

बिहार में कोरोना काल में हो रहे चुनाव में मतदान अधिक चुनौतीपुर्ण होगा। वैसे तो हर चुनाव में अधिक से अधिक मतदाताओं को बूथों तक लाने और मतदान प्रतिशत बढ़ाने की बात होती है, लेकिन इस बार यह कार्य चुनौतीपूर्ण है। बिहार में अब तक हुए विधानसभा के 16 चुनावों में केवल तीन बार ही मतदान का प्रतिशत 60 का आंकड़ा छू सका है। पिछले चुनाव यानी वर्ष 2015 में 56.66 फीसदी मतदाताओं ने अपना प्रतिनिधि चुनने में दिलचस्पी दिखाई थी, लेकिन इस बार इस आंकड़े को छूना या मतदान प्रतिशत बढ़ाना आसान नहीं होगा।

बिहार में हुए विधानसभा चुनावों पर नजर डालें तो मतदान प्रतिशत में उतार-चढ़ाव होते रहा है। वर्ष 1952 में हुए पहले चुनाव में 39.51 फीसदी ही वोट पड़े थे। हालांकि यह वह दौर था जब लोग चुनाव के मायने बहुत नहीं समझते थे। तब बिहार में एक करोड़ 61 लाख 38 हजार 956 मतदाता थे। इसके बाद 1957 में हुए चुनाव में मतदान प्रतिशत में लगभग दो फीसदी का इजाफा हुआ।

1967 के चुनाव में मतदान प्रतिशत ने पहली बार छुआ 50 का आंकड़ा
पहली बार बिहार में 1967 में मतदान प्रतिशत ने 50 प्रतिशत का आंकड़ा छुआ और 51.51 फीसदी वोटरों ने अपना प्रतिनिधि चुनने में दिलचस्पी दिखाई। इसके बाद पांच चुनावों में मतदान प्रतिशत 50 के ऊपर रहा। 90 के दशक में बदलाव की बयार में मतदान प्रतिशत को भी पंख लगे और यह 60 के पार पहुंच गया। लगातार तीन चुनावों 1990, 1995 और 2000 में 60 फीसदी से अधिक वोटिंग हुई। हालांकि यह बात दीगर है कि उस समय बाहुबल और बूथ कैप्चरिंग के मामले भी बिहार में खूब सामने आते थे।

2005 के फरवरी में 16 फीसदी गिरा मतदान प्रतिशत
2005 के फरवरी में हुए विधानसभा चुनाव में वोट प्रतिशत की तेजी बरकरार नहीं रही और यह 62.57 (वर्ष 2000) से गिरकर 46.50 फीसदी पर पहुंच गया। यानी 16.07 फीसदी की कमी आई। 2005 के अक्टूबर में ही फिर विधानसभा चुनाव हुआ और सिर्फ 45.85 प्रतिशत वोटरों ने ही मतदान करने में रुचि दिखाई। तब तक राज्य में कुल वोटरों की संख्या पांच करोड़ 13 लाख 85 हजार 891 हो गई थी। चुनाव आयोग के प्रयास और विभिन्न जागरूकता अभियानों के कारण 2010 में हुए चुनाव में 52 फीसदी वोटर घर से वोट देने निकले। इस साल 52.67 फीसदी वोट पड़े। इसके बाद 2015 में 56.66 फीसदी मतदान हुआ। अब वोटरों की संख्या सात करोड़ से अधिक हो गई है। यह देखना दिलचस्प होगा कि कोरोना काल में इनमें से कितने अपने संवैधानिक अधिकार के लिए बूथों पर पहुंचेंगे और ‘अपनी सरकार’ चुनेंगे।

किस वर्ष कितने फीसदी मतदान/ वर्ष मतदान (%) / 1952 39.51/1957 41.32/ 1962 44.47/ 1967 51.51/ 1969 52.79/ 1972 52.79/ 1977 50.51/ 1980 57.28/ 1985 57.27/ 1990 62.04/ 1995 61.79/ 2000 62.57/ 2005 फरवरी 46.50/ 2005 अक्टूबर 45.85/ 2010 52.67/ 2015 56.66

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *