Breaking News

पितृ पक्ष में करे ये काम, पितरो के साथ-साथ माँ लक्ष्मी की भी बनेगी कृपा

पितृ पक्ष आरम्भ हो चूका है और सभी लोग अपने पितरो को प्रसन्न करने और उनकी शांति के लिए पूजा अर्चना आदि करते है | ऐसा बताया जाता है कि पितृपक्ष में यमराज हमारे पूर्वजो को अपने परिजनों से मिलने के लिए मुक्त करते है | और वे पूर्वज पितृ के रूप में धरती पर आते है और अपने परिजनों को सुख शांति का आशीर्वाद देते है | शास्त्रों के अनुसार पितृपक्ष के दौरान किये जाने वाले कुछ ऐसे कार्य है, जिन्हे करने से आप पर माँ लक्ष्मी की कृपा बनती है | आज हम आपको उन्ही कार्यो के बारे में बताने जा रहे है |
बनते है बिगड़े काम
 
 
अपने पितरो का श्राद्ध उसी तिथि को करना चाहिए, जिस दिन वे परलोक सिधारे थे | परलोक गमन की तिथि पर ब्राह्मणो को भोजन कराना चाहिए और उन्हें अपनी क्षमता के अनुसार दान दक्षिणा देनी चाहिए | इस तिथि पर यदि दामाद, नाती और भांजे को भी सम्मिलित किया जाए तो ये और भी शुभ साबित होता है | इससे पितृदोष से भी मुक्ति मिलती है | साथ ही बिगड़े काम बनने लगते है |
सुख समृद्धि
 
 
पितृ पक्ष में हर दिन पितरो के नाम से जल तर्पण करना चाहिए | साथ ही यदि सम्भव हो तो रोजाना कौओ और कबूतरों के लिए भोजन का कुछ हिस्सा खिलाना चाहिए | ऐसा बताया जाता है कि कौओ द्वारा भोजन ग्रहण करने पर वह सीधा हमारे पितरो तक पहुंचता है | इससे उनकी आत्मा को शांति मिलती है और घर में सुख समृद्धि आती है |
पंच ग्रास
 
 
श्राद्ध वाले दिन पंच ग्रास का बड़ा महत्व है | पंच ग्रास में गाय के लिए, कुत्ते के लिए, बिल्ली के लिए, कौए के लिए और एक सुनसान स्थान पर भोजन रखा जाता है | इस बात का ध्यान रखे कि भोजन रखकर लौटते समय पीछे मुड़कर नहीं देखना चाहिए | जब इन पंच ग्रास का सभी जीव सेवन कर लेते है, तो पितरो की आत्मा को तृप्ति मिलती है |
माँ लक्ष्मी की कृपा
 
 
पितृपक्ष की अवधि में आपके द्वार पर कोई जरूरतमंद या मेहमान आये तो उसे खाली हाथ ना जाने दे | आप उन्हें भोजन अवश्य कराये | ऐसा बताया जाता है कि पितृपक्ष में पितर किसी का भी रूप लेकर आ सकते है | इसीलिए आप सच्चे दिल से उनकी सेवा करे | बता दे इससे माँ लक्ष्मी की भी विशेष कृपा प्राप्त होती है |
पितर होते है प्रसन्न
 
 
पितृ पक्ष की अवधि में सभी लोगो से प्रेम भाव से पेश आना चाहिए | सात्विक भोजन ही करना चाहिए | साथ ही ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए | इससे पितर हमसे प्रसन्न होते है और आशीर्वाद प्रदान करते है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *