Breaking News

धोनी के धुरंधर को मिलेगा मौका या द्रविड़ का भरोसेमंद मारेगा बाजी! कैसी होगी कोहली की टीम इंडिया?

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 26 दिसंबर से शुरू हो रही टेस्ट सीरीज के शुरुआती मैच में यह देखना दिलचस्प होगा कि कप्तान विराट कोहली किस प्लेइंग इलेवन के साथ उतरते हैं. क्या वे ऑलराउंडर शार्दुल ठाकुर सहित पांच तेज गेंदबाजों के साथ मैदान पर उतरेंगे या उछाल भरी पिचों को देखते हुए अजिंक्य रहाणे के रूप में अतिरिक्त बल्लेबाज को मौका दिया जाएगा. बल्लेबाजी के विकल्प के लिए हनुमा विहारी भी मजबूत दावेदार होंगे, जो भारत की ए टीम के साथ दक्षिण अफ्रीका का हाल ही में दौरा कर चुके हैं.

भारतीय टीम पिछले तीन दिनों से सेंचुरियन के सुपरस्पोर्ट पार्क में अभ्यास कर रही है और क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) ने मेहमानों को मैदान के मुख्य स्टेडियम पर अभ्यास करने का मौका दिया है. SENA (दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया) देशों में टेस्ट मैच से पहले मुख्य विकेट पर अभ्यास का मौका मुश्किल से ही मिलता है. बीसीसीआई की ओर से पोस्ट किए गए एक वीडियो में मुख्य कोच राहुल द्रविड़ ने मुख्य पिच पर अभ्यास से होने वाले फायदे का जिक्र किया था जबकि मध्यक्रम के बल्लेबाज श्रेयस अय्यर ने घसियाली पिच पर अभ्यास के बारे में बात की थी.

रणनीतिक तौर पर कोहली को आक्रामक कप्तान माना जाता है. वह पांच गेंदबाजों के साथ टेस्ट मैचों में उतरना पसंद करते है. रवींद्र जडेजा सातवें नंबर पर बल्लेबाजी का शानदार विकल्प देते हैं लेकिन उनकी गैरमौजूदगी में शार्दुल यह जिम्मेदारी उठा सकते हैं.

इशांत पर सिराज का पलड़ा भारी

चयन समिति के पूर्व अध्यक्ष एमएसके प्रसाद ने कहा, ‘मुझे लगता है कि अगर टीम पांच गेंदबाजों के साथ उतरेगी तो शार्दुल सबसे अच्छा विकल्प है क्योंकि वह सातवें नंबर पर बल्लेबाजी का विकल्प भी देते हैं और हमारे पास रविचंद्रन अश्विन भी हैं. टीम में चार गेंदबाजों की जगह लगभग तय है. इसमें जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी, अश्विन और मोहम्मद सिराज का नाम आता है. मुझे नहीं लगता कि मौजूदा लय को देखते हुए में इशांत को सिराज की जगह तरजीह मिलेगी.’

विहारी रह जाएंगे पीछे!

सेंचुरियन एक ऐसी जगह है जो समुद्र तल से 1300 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है. यहां गेंदबाज जल्दी थक सकते हैं और चार गेंदबाजों के मामले में उनके थकने की संभावना अधिक होगी. एक अतिरिक्त बल्लेबाज के मामले में विहारी के मुकाबले अनुभवी रहाणे की दावेदारी अधिक मजबूत होगी.

विहारी भारत में खेली गई न्यूजीलैंड टेस्ट सीरीज का हिस्सा नहीं थे. वह ए टीम के साथ ने दक्षिण अफ्रीका दौरे पर आए थे. उन्होंने दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ तीन अर्धशतकीय पारियां खेली जिसमें क्रमश: 54, 72 नाबाद और 63 का स्कोर शामिल है. रहाणे को हालांकि अपनी योग्यता साबित करने के लिए एक और मौका मिल सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *