Breaking News

दीपिका पादुकोण ने बयां किया अपने ब्रेकअप पर दर्द, कहा- ‘मेरी मां ने मुझे..

बॉलीवुड एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) ने अब तक कई शानदार फिल्मों में काम किया है। वह अपनी लाइफ को लेकर काफी खुलकर बात करती हैं। यहां तक कि वह अक्सर अपनी मानसिक स्थिति और डिप्रेशन को लेकर अपने एक्सपीरियंस भी शेयर करती रहती हैं।

एक बार फिर ‘वॉयस चैट रूम’ सेशन के दौरान उन्होंने कहा कि कैसे जब वह डिप्रेशन के बुरे समय से गुजर रही थीं, उस वक्त उनकी मां ने उन्हें बहुत सहारा दिया था।

When Deepika Padukone said her mother is her fashion icon | Filmfare.comआसान नहीं था समय

एक्ट्रेस दीपिका पादुकोण (Deepika Padukone) का नाम आज उन एक्ट्रेसस में गिना जाता है जो जिन्होंने अपने करियर में बेहतरीन फ़िल्में दी हैं। साथ ही वह एक सफल शादीशुदा लाइफ भी बिता रही हैं। मगर उनकी जिंदगी हमेशा से इतनी अच्छी नहीं थी। दीपिका ने भी अपनी लाइफ में बहुत बुरे समय का सामना किया है। एक समय था जब उन्हें यह लाइफ बिना काम की, बर्बाद होती दिखाई दे रही थी।

What Made Deepika Padukone Cryइन्होंने समझा दर्द

उस वक्त में वह बहुत टूट चुकी थी। मगर उस समय में किसी और ने नहीं बल्कि उनकी मां ने उन्हें समझा और संभाला। उस दौर के बारे में बात करते हुए दीपिका ने बताया, ‘मेरी मां उज्जवला पादुकोण मेरे रोने के तरीके से समझ गई थी कि यह काम का स्ट्रेस या नॉर्मल बॉयफ्रेंड इश्यू और ब्रेकअप से अधिक बड़ी मुसीबत में हैं।’

Seeing Deepika Padukone crying, the mother understood the problem, the  actress's pain on mental health - PressWire182014 में शुरू हुआ था डिप्रेशन

दीपिका पादुकोण अक्सर मेंटल हेल्थ और डिप्रेशन को लेकर बात करती रहती हैं। मगर इस बार जैसे उनका दर्द दोबारा बाहर आ गया और वह इमोशनल हो गईं। ‘वॉयस चैट रूम’ सेशन के बीच दीपिका ने बताया कि मेरा डिप्रेशन फरवरी 2014 में शुरू हुआ था। मेरी लाइफ का यह एक ऐसा समय था जब मैं भीतर से बिल्कुल टूट चुकी थी। ऐसा लग रहा था कि बिना मतलब के लाइफ जी रही हूँ। फिजिकली और मेंटली दोनों ही तरीकों से टूट चुकी थी।

Deepika Padukone's Father Prakash Padukone Hospitalised For COVID-19; Mother  And Sister Also Test Positiveमां ने समझी हालत

दीपिका ने कहा,’ यह सब कई दिनों और महीनों से चल रहा था। इसी बीच मेरा परिवार मुझसे मिलने मुंबई आय था। मगर जब फैमिली के लोग वापस जा रहे थे और अपनी पैकिंग कर रहे थे उस दौरान मैं इनके रूम में गई और रोने लगी। मेरी मां मुझे रोता देख सब समझ गई थी। उन्हें समझ आ गया था कि मैं किसी बड़ी प्रॉब्लम में हूं। फिर मां ने मुझसे पूछा कि क्या हुआ? मगर मैं नहीं बता पाई। मगर मेरी मां का एक्सपीरियंस और प्रिजेंस ऑफ़ माइंड ही था, जिसके कारण मैं इस मुसीबत से निकल सकी।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *