Breaking News

तालिबान की इस्लामिक कट्टरता के खिलाफ डोभाल ने बनाई रणनीति, रूस ने किया ये वादा

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे काबुल के साथ पूरे देष की स्थिति बिगड़ चुकी है। दुनिया के देशों के लिए तालिबान खतरा बन चुका है। तालिबान की कट्टरता और जिहाद की आंच मध्य एशिया के दूसरे देशों तक न पहुंचे, इसको लेकर पड़ोसी भी परेशान है। तालिबान की आड़ में सबसे ज्यादा चाल पाकिस्तान और तुर्की चल सकते हैं। पाकिस्तान और तुर्की का मकसद ही इस्लामिक कट्टरता फैलाना है। इस चाल को नाकाम करने के लिए अब भारत और रूस ने हाथ मिलाया है। भारत और रूस दोनों नहीं चाहते हैं कि इस क्षेत्र में इस्लामिक कट्टरता संकट बन जाये।  एनएसए अजित डोभाल और रूसी समकक्ष निकोलय पत्रुशेव ने बड़ी रणनीति बनाई है। डोभाल ने मुलाकात के दौरान मध्य एशियाई देशों की सुरक्षा को लेकर भी काफी देर तक चर्चा की।

बताया जा रहा है कि इस बात के ठोस संकेत मिले हैं कि तुर्की और पाकिस्तान मध्य एशिया के इन देशों में एनजीओ के जरिए अपनी पैठ बनाने में जुटे हुए हैं। इन एनजीओ को इस्लामिकरण के प्रयासों को पूरान करने में तुर्की की तरफ से तकनीकी सहयोग भी मिल रहा है। पाकिस्तान और तुर्की की यह एक नई चाल होगी। मध्य एशियाई देशों में इस्लाम माना जाता है लेकिन यह तालिबान जितना कट्टर नहीं है। तालिबान की कट्टरता पर नकेल कसने की तैयारी शुरू हो गयी है।

ऐसा माना जा रहा है कि पाकिस्तान और तुर्की के इशारों पर अब कट्टरवादी इस्लाम का मिषन पूरा कर रहा है। इसके लिए तालिबान शासित अफगानिस्तान का सहारा लिया जाएगा। अल-कायदा का सहयोगी इस्लामिक मूवमेंट ऑफ उजबेकिस्तान का अफगानिस्तान में सक्रिय काडर है और यह उज्बेकिस्तान के फरघाना वैली में काफी प्रभावी संगठन भी माना जाता है।

डोभाल-पत्रुशेव की बैठक के दौरान जहां मध्य एशियाई देशों की सुरक्षा को लेकर चर्चा हुई, वहीं रूसी पक्ष की ओर से यह जानकारी दी गई है कि फिलहाल इन देशों में सुरक्षा स्थिति नियंत्रित है। खतरा तब बढ़ जाएगा जब पाकिस्तान की अगुवाई में तालिबान अपने पैर पसारने की कोशिश करेगा। तालिबान को पैर पसारने से रोकना होगा।  इस दौरान रूस और भारत ने मध्य एशियाई देशों के साथ मोदी सरकार की वार्ता को बढ़ाने पर भी विचार किया ताकि द्विपक्षीय संबंधों को आगे ले जाया जा सके। भारत का पहले ही ताजिकिस्तान से रक्षा और सुरक्षा क्षेत्र में गहरा संबंध है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *