Breaking News

डीजीएमओ की बैठक में सीजफायर और शांति बहाली पर बनी रणनीति, हॉटलाइन संपर्क रहेगा बहाल

भारत-पाकिस्तान के रिश्तों के बीच अब धीरे-धीरे तल्खियां कम होती जा रही हैं। जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा पर शांति बहाल हो, इसके लिए भारत और पाकिस्तान के ब्रिगेड कमांडरों ने रावलकोट-पुंछ क्रॉसिंग प्वाइंट पर महत्वपूर्ण बैठक हुई है। यह बैठक ऐसे समय पर हुई है जब पिछले महीने ही भारत और पाकिस्तान के सैन्य संचालन महानिदेशकों (डीजीएमओ) के बीच सीजफायर को लेकर एक सहमति बनी थी। इस सहमति के बाद बैठक को लेकर दोनों देशों की नजर थी। बताया जा रहा है कि ब्रिगेड कमांडरों की इस बैठक में डीजीएमओ के बीच हुई बातचीत को लागू करने को लेकर बातचीत हुई। डीजीएमओ के बीच हुई वार्ता में 24 और 25 फरवरी की रात से एलओसी और अन्य सेक्टरों में सीजफायर को सख्ती से लागू करने को लेकर सहमति बनी थी। भारत एवं पाकिस्तान के सैन्य संचालन महानिदेशकों के बीच बैठक में संघर्षविराम को लेकर फैसला किया गया, जो लागू हो गया है। इस निर्णय को दोनों देश पालन करेंगे। दोनों देशों के डीजीएमओ ने हॉटलाइन संपर्क तंत्र को लेकर चर्चा की और नियंत्रण रेखा एवं सभी अन्य क्षेत्रों में हालात की सौहार्दपूर्ण एवं खुले माहौल में समीक्षा की थी।

हाॅटलाइन सम्पर्क तंत्र बना रहेगा। संयुक्त बयान में कहा गया था कि सीमाओं पर दोनों देशों के लिए लाभकारी एवं स्थायी शांति स्थापित करने के लिए डीजीएमओ ने उन अहम चिंताओं को दूर करने पर सहमति जताई है जिनसे शांति बाधित हो सकती है और हिंसा हो सकती है। शांति स्थापना के लिए हमेषा कार्य करेंगे। इसमें कहा गया कि दोनों पक्षों ने 24-25 फरवरी की मध्यरात्रि से नियंत्रण रेखा एवं सभी अन्य क्षेत्रों में संघर्ष विराम समझौतों, और आपसी सहमतियों का सख्ती से पालन करने पर सहमति जताई। सीजफायर का कोई उल्लंघन नहीं करेगा।

बैठक के बाद बयान में कहा गया कि दोनों पक्षों ने दोहराया कि मौजूदा हॉटलाइन संपर्क और सीमा पर फ्लैग मीटिंग का इस्तेमाल किसी भी प्रकार भी अप्रत्याशित स्थिति या गलतफहमी को दूर करने के लिए किया जाएगा। विपरित स्थिति आने से पहले सम्पर्क किया जाएगा। दोनों देशों की सेनाओं के बीच में यह सैन्य संपर्क का यह तंत्र 1987 से मौजूद है। दोनों देशों के बीच वर्ष 2003 से ही संघर्ष विराम समझौता लागू है लेकिन पिछले कुछ वर्षों में दोनों देशों के बीच कई बार भीषण गोलाबारी हुई है। अब सीमा पर सीजफायर है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *