Breaking News

डिप्रेशन से जूझ रहे पायलट ने ली 150 लोगों की जान, विमान को पहाड़ों से किया क्रैश

किसी भी व्यक्ति के लिए डिप्रेशन (Depression) से जूझना उसकी जिंदगी का सबसे कठिन पल होता है. इस दौरान पीड़ित को आत्महत्या से लेकर अजीबो-गरीब ख्याल आते हैं. ऐसे में उसे मानसिक इलाज की जरूरत होती है. अगर ऐसा नहीं होता है तो नतीजे क्या हो सकते हैं, इसका उदाहरण जर्मनी के एक विमान दुर्घटना से जानने को मिलता है. ये दुर्घटना आज ही के दिन हुई थी. दरअसल, डिप्रेशन का शिकार पायलट अपनी जिंदगी से इतना निराश हो चुका था कि उसने विमान की टक्कर पहाड़ों से करवा दी. इस हादसे में विमान में सवार सभी 150 लोग मारे गए.

24 मार्च 2015 को जर्मनविंग्स (Germanwings) की फ्लाइट संख्या 9525 ने स्पेन के बारसिलोना एल-पराट एयरपोर्ट से जर्मनी के डसेलडोर्फ एयरपोर्ट के लिए उड़ान भरी. विमान में सवार किसी भी यात्री को नहीं मालूम था कि ये उनकी आखिरी यात्रा होने वाली है. फ्रांस के नीस शहर से 100 किलोमीटर उत्तर-पश्चिम में स्थित फ्रेंच आल्प की पहाड़ियों से विमान जा टकराया. ये विमान दुर्घटना को-पायलट एंड्रियास लुबित्ज द्वारा जानबूझकर किया गया था.

डिप्रेशन की जानकारी को कंपनी से छिपाया

लुबित्ज का पहले आत्महत्या के प्रयास जैसे मामलों के लिए इलाज चल रहा था. उसके डॉक्टर ने उसे काम करने के लिए अयोग्य घोषित किया हुआ था. पायलट ने इस जानकारी को अपनी कंपनी से छिपाए रखा और ड्यूटी के लिए रिपोर्ट किया. फ्रेंच नेशनल सिविल एविएशन इन्क्वायरी ब्यूरो के मुताबिक, फ्रांस में प्रवेश करने के दौरान पायलटों ने फ्रेंच एयर ट्रैफिक कंट्रोल से दिशानिर्देश लिए. इसके बाद विमान में सवार पायलट लुबित्ज को आत्महत्या का ख्याल आने लगा.

कॉकपिट को लॉक कर विमान को नीचे ले जाने लगा पायलट

विमान के क्रूज अलटिट्यूड पर पहुंचने पर एक पायलट कॉकपिट से बाहर निकल गया. ये देखते ही लुबित्ज ने कॉकपिट को लॉक कर दिया और विमान को तेजी से नीचे ले जाने लगा. फ्रेंच एयर ट्रैफिक कंट्रोल ने बताया कि विमान ने बिना किसी आदेश के तेजी से नीचे जाना शुरू कर दिया. एयर ट्रैफिक कंट्रोल से विमान का रेडियो संपर्क टूट गया और इसने विमान को संकट में फंसा घोषित कर दिया. विमान से बार-बार संपर्क करने का प्रयास किया गया, लेकिन दूसरी तरफ से कोई जवाब नहीं दिया गया.

मिराज जेट को ढूंढ़ने भेजा, लेकिन तब तक दुर्घटनाग्रस्त हो चुका था विमान

विमान से संपर्क टूटने की जानकारी फ्रांस की वायुसेना को दी गई. इसके बाद एक मिराज जेट ने विमान का पता लगाने के लिए उड़ान भरी. लेकिन जब तक फ्रांसीसी जेट विमान को ढूंढ़ पाता, तब तक देर हो चुकी थी. विमान फ्रांस की आल्प की पहाड़ियों से जा टकराया था. घटना की जानकारी मिलते ही वायुसेना के हेलिकॉप्टर और एयर एंबुलेंस घटनास्थल पर पहुंचे. इस हादसे में विमान में सवार एक भी व्यक्ति जिंदा नहीं बचा.डिप्रेशन ,जूझ , पायलट , 150 लोगों की जान, विमान ,पहाड़ों से किया क्रैश,Depression, grappling, pilots, 150 lives, aircraft, mountains crashed, 6 क्रू मेंबर्स समेत 150 लोग इस हादसे में मारे गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *