Breaking News

गोवा बार विवाद पर स्मृति की बेटी के वकील ने कहा, ‘न तो वह ओनर हैं, न ही मैनेजमेंट में है दखल

गोवा (Goa) में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी (Smriti Irani) की बेटी के द्वारा कथित तौर पर फर्जीवाड़ा कर शराब लाइसेंस (liquor license) लेने का मामला अब सियासी आरोप-प्रत्यारोप का मैदान बन गया है. इस पूरे मामले में कांग्रेस (Congress) की तरफ से जहां केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी के परिवार और बेटी को निशाना बनाया जा रहा है. वहीं स्मृति ईरानी ने अपने पलटवार में कांग्रेस के प्रवक्ता पवन खेड़ा (Pawan Khera) और जयराम रमेश (Jairam Ramesh) को कानूनी नोटिस भेजने की बात कही है. इस मामले में अब स्मृति ईरानी की बेटी के वकील ने भी बयान जारी कर दिया है. उनका कहना है कि जोइश उस रेस्टोरेंट में बस एक इंटर्न के तौर पर काम कर रही थीं. वो ना तो रेस्टोरेंट चलाती हैं, ना ही उसकी मालिक हैं.

वहीं इस मामले को लेकर शिकायत करने वाले वकील ने दावा किया है कि इस संबंध में 29 जुलाई को आबकारी आयुक्त सुनवाई करने वाले हैं. उसी दिन पता चल जाएगा कि आखिर कौन-सा Ghost इस रेस्टोरेंट को चला रहा था. ये पूरा प्रकरण तब सामने आया जब गोवा के आबकारी आयुक्त ने ‘सिली सोल्स कैफे एंड बार’ को नियमों और प्रक्रियाओं को धता बताकर शराब लाइसेंस लेने के मामले में एक कारण बताओ नोटिस जारी किया.

इस मामले में दर्ज कराई गई शिकायत में आरोप लगाया गया है कि इस बार का संचालन केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की बेटी करती हैं. शिकायत में कहा गया है कि शराब का लाइसेंस तब भी जारी किया गया, जब इस बार के पास रेस्टोरेंट का लाइसेंस ही नहीं है. वहीं जून में शराब के लाइसेंस का नवीनीकरण ऐसे व्यक्ति के नाम पर किया गया जिसकी मौत मई में ही हो गई थी.

कांग्रेस ने मांगी थी स्मृति ईरानी से सफाई
कांग्रेस ने प्रेस कान्फ्रेंस कर इस पूरे मामले पर स्मृति ईरानी की सफाई मांगी थी. शाम में केन्द्रीय मंत्री ने कांग्रेस के आरोपों पर पलटवार करते हुए कहा- मेरी बेटी कॉलेज की स्टूडेंट है और वो कोई बार नहीं चलाती है. ऐसे में चर्चा उठी कि ये कैफे और बार का स्मृति ईरानी के परिवार से कोई संबंध है भी या नहीं. स्मृति ईरानी की प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद इस मामले में शिकायत करने वाले वकील एडवोकेट Aires Rodrigues ने बयान जारी किया है.

जल्द पता चलेगा कौन चलाता है गोवा का बार
वकील ने अपने बयान में कहा- सारी दुनिया को पता है कि पॉश सिली सोल्स कैफे एंड बार को केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का परिवार मैनेज करता है. ये रेस्त्रां गोवा के असागाओ गांव के भोउटा वाडो में है, और स्मृति ईरानी के परिवार से इसके संबद्ध होने के पर्याप्त प्रमाण हैं. वकील ने कहा कि आबकारी आयुक्त ने बार और रेस्टोरेंट को कारण बताओ नोटिस जारी किया है, तो इसकी सुनवाई 29 जुलाई को है, उस दिन हम सब को पता चल जाएगा कि कौन-सा Ghost इस रेस्टोरेंट को चलाता है.

वकील ने दावा किया कि स्मृति ईरानी के परिवार के पास गोवा में कई प्राइम लोकेशन पर प्रॉपर्टी हैं. इन सभी की जांच की जानी चाहिए. इस बीच में टीवी पर्सनैलिटी कुणाल विजयकर का एक वीडियो वायरल हो रहा है. इसमें वो स्मृति ईरानी की बेटी जोइश का इंटरव्यू कर रहे हैं, जिसमें वह स्वीकार करती नजर आ रही हैं कि ये रेस्टोरेंट और बार उनका है. इसके अलावा 14 अप्रैल 2022 को छपे एक लेख में स्मृति ईरानी के इस रेस्टोरेंट को कुणाल विजयकर से मिले अच्छे रिव्यू पर पॉजिटिव तरीके से रिएक्ट करने की बात कही गई थी. साथ ही कहा था कि वो (जोइश) उनका अभिमान है.

कौन सी स्मृति ईरानी सच बोल रही ?
इस पर कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने ट्वीट किया है- कौन सी स्मृति ईरानी झूठ बोल रही हैं. वो जिन्होंने 14 अप्रैल 2022 को अपनी बेटी के रेस्टोरेंट की तारीफ की और उसे अपना अभिमान बताया या वो जो आज कह रही हैं कि उनकी बेटी का सिली सोल्स बार एंड कैफे से कोई लेना देना नहीं हैं.

जोइश ने आरोपों को बताया निराधार
वहीं इस मामले में स्मृति ईरानी की बेटी जोइश ईरानी ने भी अपनी सफाई दी है. जोइश का कहना है कि ये आरोप निराधार हैं. वो ना तो किसी रेस्टोरेंट की मालिक हैं और ना किसी रेस्टोरेंट को चलाती हैं. उनके वकील कीरत नागरा ने एक बयान में कहा- स्मृति ईरानी के राजनीतिक विरोधियों ने उनके (जोइश) के ऊपर मनगढंत आरोप लगाए हैं. इनका एकमात्र लक्ष्य एक राजनेता की बेटी होने की वजह से उन्हें बदनाम करना है. नागरा का कहना है कि कांग्रेस ने स्मृति ईरानी की बेटी पर गोवा में एक ‘अवैध बार’ चलाने का आरोप लगाया है, साथ ही आबकारी विभाग द्वारा जारी कारण बताओ नोटिस की कॉपी भी दिखाई है. ये एक ‘काफी गंभीर मामला’ है, क्योंकि उन्हें किसी भी अथॉरिटी से कोई भी नोटिस नहीं मिला है.’

नागरा ने अपने बयान में कहा- मेरी क्लाइंट (जोइश) एक 18 साल की युवा छात्र हैं जो शेफ बनने की पढ़ाई कर रही हैं. इसलिए वो पाक कला में पारंगत होने के लिए अलग-अलग रेस्टोरेंट में काम करती हैं. ये उनकी मां के राजनीतिक विरोधियों की उन्हें डराने और बदनाम करने की कोशिश है.

जोइश के वकील का कहना है- इन राजनीतिक विरोधियों ने हमारी क्लाइंट पर कई आधारहीन आरोप लगाए हैं. ये दुर्भाग्य की बात है कि वो बेबुनियाद मसले को सनसनीखेज बनाने के लिए झूठा प्रचार फैला रहे हैं. जोइश सिली सोल्स कैफे के शेफ के साथ इंटर्नशिप कर रही थीं. ऐसे में रेस्टोरेंट के प्रबंधन में उनका कोई दखल नहीं था और ना ही उनका कोई नियंत्रण था. हमारी क्लाइंट सिली सोल्स रेस्टोरेंट को ना तो चला रही थीं, ना ही मालिक हैं.

‘मेरी बेटी की इज्जत की धज्जियां उड़ाने की कोशिश’
इससे पहले स्मृति ईरानी ने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि कांग्रेस ने एक 18 साल की लड़की की इज्जत की धज्जियां उड़ाने का दुस्साहस किया है. उस लड़की का दोष यह है कि उस लड़की की मां ने 2014 और 2019 में अमेठी से राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ा. ईरानी ने कहा कि आज अपनी एक प्रेस कांफ्रेंस में कांग्रेस के प्रवक्ता ने हंसते हुए जिस लड़की पर आक्रमण किया, वो राजनीति में नहीं है और एक साधारण कॉलेज स्टूडेंट के रूप में अपना जीवन व्यतीत कर रही है. ईरानी ने कहा कि पवन खेड़ा ने ये कहा कि मेरी बेटी को कारण बताओ नोटिस दिया गया और अपने हाथ में 2 कागज दिखाए. मैं आज पूछना चाहती हूं कि इन कागजों में मेरी बेटी का नाम कहां है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *