Breaking News

कोरोना वायरस के बीच मुंबई के बच्चों में मिली एक और खतरनाक बीमारी, चिंता में आए डॉक्टर

कोरोना वायरस ने दुनिया में कोहराम मचा दिया है। अब तक दुनिया में 1 करोड़ से ज्यादा कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आकड़ा पहुंच गया है लेकिन इस बीच कई देशों में कावासाकी की बीमारी भी सामने आ गई है लेकिन अब इस बीमारी ने भारत में भी दस्तक दे दिया है। भारत में कावासाकी बीमारी के मरीज भी सामने आने लगे है। जिसे देख डॉक्टर भी हैरान है। दरअसल मुंबई में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा सबसे तेजी से बढ़ रहा है लेकिन अब पश्चिमी मुंबई में कावासाकी मरीज का पहला मरीज सामने आया है। जिसे बाद डॉक्टर भी टेंशन में आ गए है।

जानकारी के मुताबिक, मुंबई के एक अस्पताल में 14 साल की लड़की को तेज बुखार और शरीर पर चकते के निशान उभर रहे थे। जिसके बाद पता चला कि लड़की कावासाकी बीमारी से संक्रमित है। डॉक्टर के मुताबिक, ये लक्षण कावासाकी बीमारी से मिलते-जुलते है। ये लक्षण उभरने के बाद लड़की की तबीयत बिगड़ती चली गई। इसके बाद लड़की को आईसीयू वार्ड में शिफ्त करना पड़ा। वहीं, डॉक्टर मरीज का इलाज करने के लिए कई दवाओ के मिश्रण के साथ टोसिलजैमैब दवा दे रहे है। बच्चों में होने वाली संक्रमक बीमारियों की एक्सपर्ट तनु सिंघल के बताया कि कावासाकी जैसे लक्षण के मरीज को काफी तेजी से बुखार आता है। जिसके बाद मरीज की तबीयत तेजी से खराब होती जाती है। इसी वजह से उस किशोरी को सबसे पहले अस्पताल लाना चाहिए था। जहां पर उसकी बीमारी पर काम किया जा सकता। हालांकि मरीज में सिर्फ कावासाकी जैसे लक्षण है।

बता दें कि कावासाकी बीमारी आमतौर पर 5 साल से कम उम्र के बच्चों को ही होता है। जिस वजह अप्रैल के महीने में ही ब्रिटेन के डॉक्टरों ने चेतावनी जारी की थी। वहीं अब देश की नेशनल हेल्थ सर्विस ने अलर्ट जारी करते हुए कहा कि इस बीमारी में बुखार भी आता है। इसके अलावा सांस लेने में तकलीफ होती है। मरीजों में लगभग कोरोना के लक्षण ही देखने को मिलते है लेकिन बच्चों में स्किन पर चकत्ते दिखना, हाथों में सूजन होना, आंखों में लालिमा दिखना और गले में सूजन होना जैसे लक्षण दिख रहे हैं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *