Breaking News

कांग्रेस अध्यक्ष बनने के लिए राहुल गांधी पर दबाव बनाने की कोशिशें तेज

कांग्रेस के अध्यक्ष (Congress President Election) पद के लिए चुनाव की अधिसूचना जारी होने में कुछ ही दिन शेष रह जाने के बीच गांधी परिवार (Gandhi family) के प्रति निष्ठा रखने वालों और (कांग्रेस की) प्रदेश इकाइयों ने पार्टी की बागडोर संभालने के लिए राहुल गांधी (Rahul Gandhi) पर दबाव बनाने की कोशिशें तेज कर दी हैं। उल्लेखनीय है कि राहुल कथित तौर पर यह संकेत देते रहे हैं कि वह अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) (All India Congress Committee (AICC)) का प्रमुख नहीं बनने के अपने रुख में बदलाव नहीं करना चाहते हैं. बता दें, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की इकाइयों ने राहुल को पार्टी का अध्यक्ष बनाने के लिए प्रस्ताव पारित किये हैं। सिर्फ इन्हीं दोनों राज्यों में कांग्रेस अपने बूते सरकार में है।

कुछ दिन पहले पार्टी ने कहा था कि प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रतिनिधि प्रस्ताव पारित कर कांग्रेस के आगामी अध्यक्ष को प्रदेश प्रमुखों और एआईसीसी प्रतिनिधियों को नियुक्त करने के लिए अधिकृत करेंगे. रविवार को कांग्रेस के आगामी अध्यक्ष को प्रदेश प्रमुखों और एआईसीसी प्रतिनिधियों को नियुक्त करने के लिए अधिकृत करने संबंधी प्रस्ताव पारित करते हुए छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी (सीपीसीसी) ने राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाये जाने का भी प्रस्ताव पारित किया।

अशोक गहलोत और भूपेश बघेल ने तेज की कोशिशें
इससे एक दिन पहले शनिवार को राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने इस तरह के दो प्रस्ताव पारित किये थे. पार्टी की अन्य प्रदेश इकाइयों के भी इस तरह के प्रस्ताव पारित करने की संभावना है. राजस्थान में अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) की सरकार है. उन दोनों ने राहुल से बार-बार पार्टी की बागडोर संभालने का अनुरोध किया है. गहलोत और बघेल क्रमश: सचिन पायलट और टी एस सिंहदेव से अपने-अपने पद के प्रति आंतरिक रूप से दबाव का सामना कर रहे हैं। पायलट और सिंहदेव को क्रमश: राजस्थान और छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री पद के आकांक्षी के तौर पर देखा जा रहा है।

कुछ राजनीतिक विश्लेषक इन प्रस्तावों को पारित किये जाने संबंधी गहलोत और बघेल की पहल को गांधी परिवार के प्रति उनके द्वारा अपनी निष्ठा जताये जाने के तौर पर देखते हैं, जबकि अन्य इसे पार्टी की बागडोर संभालने के लिए राहुल को मनाने की वास्तविक कोशिश मानते हैं. गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष बनने की दौड़ में खुद के शामिल होने की खबरों को तवज्जो नहीं देने की कोशिश की है. उन्होंने कहा है कि एक बार फिर से पार्टी की बागडोर संभालने के लिए राहुल गांधी को मानने के वास्ते आखिरी क्षण तक प्रयास किया जाएगा।

जून में भी सीपीसीसी ने पारित किया था प्रस्ताव
बता दें, इस साल जून में भी सीपीसीसी ने राहुल गांधी को पार्टी अध्यक्ष बनाये जाने का एक प्रस्ताव पारित किया था. बघेल ने रायपुर में संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने राहुल गांधी को पार्टी का अध्यक्ष नियुक्त करने का प्रस्ताव पेश किया, जिसका अनुमोदन प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रमुख मोहन मरकाम, राज्य विधानसभा अध्यक्ष चरण दास महंत, मंत्रियों-टी एस सिंह देव, शिवकुमार डहरिया और प्रेमसाय टेकाम- ने किया. बघेल ने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘सीपीसीसी ने आज प्रस्ताव (राहुल गांधी को अध्यक्ष बनाने का) पारित किया और पार्टी की राजस्थान इकाई ने भी ऐसा किया है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यदि इसी तरह के प्रस्ताव अन्य राज्यों में भी पारित किये जाते हैं तो राहुल जी इस पर पुनर्विचार करेंगे, क्योंकि पार्टी के अध्यक्ष पद का चुनाव नजदीक आ रहा है. पार्टी के सभी कार्यकर्ताओं की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए, मुझे लगता है कि राहुल जी (पार्टी प्रमुख बनने के लिए) राजी हो जाएंगे.’’

राहुल गांधी चुनाव नहीं लड़ने के दे रहे हैं संकेत
पार्टी प्रमुख की जिम्मेदारी संभालने के लिए राहुल से की गई कोशिशों और अपील के बावजूद, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने इस महीने की शुरूआत में कहा था कि उन्होंने फैसला कर लिया है, लेकिन अपनी योजनाओं का खुलासा नहीं करेंगे. उन्होंने जोर देते हुए कहा कि यदि पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए वह आगामी चुनाव नहीं लड़ेंगे तो वह इसके कारण बता देंगे. राहुल की टिप्पणी को पार्टी में इस संकेत के तौर पर देखा गया है कि वह पार्टी के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ने को इच्छुक नहीं है।

उन्होंने हाल में कन्याकुमारी में संवाददाता सम्मेलन में इस संबंध में पूछे गये एक सवाल के जवाब में कहा था, ‘‘मैं अध्यक्ष बनूंगा या नहीं, यह कांग्रेस के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव होने के समय पूरा स्पष्ट हो जाएगा.’’उन्होंने कहा था, ‘‘तब तक इंतजार करिए और जब वह समय आएगा, आपको पता चल जाएगा.’’ राहुल ने कहा था कि वह जो कुछ करने जा रहे हैं उस बारे में उन्होंने बहुत स्पष्ट रूप से फैसला कर लिया है. उन्होंने कहा था, ‘‘मेरे मन में कहीं से भी भ्रम नहीं है.’’

‘कांग्रेस पार्टी में गांधी परिवार का विशेष स्थान’
रहस्य और अनिश्चिता जारी रहने के बीच, कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं ने कहा है कि राहुल के पार्टी अध्यक्ष नहीं बनने पर भी पार्टी में गांधी परिवार का विशेष स्थान बना रहेगा. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के अध्यक्ष के चयन के लिए आम सहमति का रविवार को समर्थन किया. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी पार्टी के अध्यक्ष हो या नहीं हो, उनका पार्टी में हमेशा ‘‘विशेष स्थान’’ रहेगा क्योंकि पार्टी के आम कार्यकर्ताओं में उनकी ‘‘स्वीकार्यता’’ है।

22 सितंबर को जारी होगी अधिसूचना
पार्टी के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने भी नये अध्यक्ष के चयन में आम सहमति बनाने की हिमायत की और किसी भी तरह की स्थिति उभरने पर संगठनात्मक विषयों में नेहरू-गांधी परिवार की प्रमुखता बनाये रखने की मांग की. कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव के लिए अधिसूचना 22 सितंबर को जारी की जाएगी और नामांकन दाखिल करने की प्रक्रिया 24 से 30 सितंबर तक चलेगी. नामांकन वापस लेने की अंतिम तिथि आठ अक्टूबर है और जरूरत पड़ने पर चुनाव 17 अक्टूबर को कराया जाएगा. नतीजे 19 अक्टूबर को घोषित किये जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *