Breaking News

करें ये आसान काम और घर बैठे पाएं पांच लाख की फ्री बीमा योजना का लाभ

मोदी सरकार ने जनता की भलाई को देखते हुए आयुष्मान भारत योजना (एबीवाई) शुरू की थी. लोग एबीवाई को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना भी (पीएम जय) कहते हैं. गरीब लोंगो के लिए ये एक हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम है. इस योजना  अंतर्गत देश के 10 करोड़ परिवारों का 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा मिल रहा है. अब केंद्र सरकार आयुष्मान अभियान चला रही है. अब इस योजना के अंतर्गत घर-घर में फ्री पीवीसी कार्ड दिए जाएंगे. अभी तक इसके लिए कॉमन सर्विस सेंटर में ई-कार्ड मिलता था, जहां पर इसकेलिए आपको 30 रुपये देने पड़ते थे. इस योजना से परिवारों को लाभ मिलेगा, हर परिवार को इलाज के लिए सलाना 5 लाख रुपये दिये जाते हैं.


कैसी है पूरी योजना?
इस अभियान के अंतर्गत कर्मचारी आपके घर पहुंचकर सारी डिटेल लेंगे, इसके बाद ही कार्ड मिलेगा. पीवीसे तौर पर आपकों ये कार्ड मिलेगा. इसकी विशेषताये हैं कि  है कि इसमें आपसे पैसा बिल्कुल नही लिया जाएगा. इस अभियान का उद्देश्य है कि आयुष्मान भारत स्कीम के तहत आने वाले लोगों के पक्के कार्ड बन सके जिसकी मदद से बीमारी के समय उनसे इलाज हो सके. इलाज में लगे उन्हें इंश्योरेंस के पैसे मिल सकें. हर परिवार को साल में इलाज के तौर पर 5 लाख रुपये दिये जाएंगे.
इस नए अभियान का नाम आयुष्मान आपके द्वार रखा गया है. राज्य सरकार इस अभियान में अपनी भागीदारी दिखा रही हैं. एक इंटरव्यू में नेशनल हेल्थ मिशन के सीईओ आर एस शर्मा ने कहा कि इस योजना को सफल बनाने में सबसे उनका योगदान मिल रहा है. उन्होंने कहा कि पंजाब, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश, बिहार,  अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. बात करें अगर  छत्तीसगढ़ की तो वहां पर करीबन 28 लाख कार्ड बनाए गए हैं. वहीं मध्य प्रदेश में 1 लाख 12 हज़ार, तो पंजाब में 39 हज़ार, यूपी में 1 लाख 53 हज़ार, बिहार में 17 हज़ार 500, हरियाणा में 9 हज़ार 600 और जम्मू कश्मीर में 13 हज़ार 800 कार्ड बनाए जा चुके हैं.
कार्ड बनवाने का प्रोसेस

कार्ड को बनवाने के लिए अभी तक आम जनता को कॉमन सर्विस सेंटर जाना पड़ता था, जहां 30 रुपए लिए जाते थे. उसमें भी एक कागज पर सारी डिटेल लिखकर दे दी जाती थी, लेकिन अब घर पर ही फ्री में कार्ड दिलाया जाएगा। देशभर में आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत 10 करोड़ परिवार है और जिसमे सदस्यों की संख्या 54 करोड़ है. अब तक करीब सवा करोड़ कार्ड का ही निर्माण हो पाया है. इसका मतलब है कि सरकार के लक्ष्य को पूरा होने में अभी समय है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *