Breaking News

ऑक्सीजन का मॉकड्रिल कर 22 मरीजों की ले ली जान, अस्पताल सीज कर पारस हॉस्पिटल पर सख्त कार्रवाई, ऐसी है तैयारी

आगरा के पारस हॉस्पिटल में डाॅक्टरों ने मौत का तांडव मचा दिया है। इस मौत के खेल का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें 22 लोगों की ऑक्सीजन की कमी से मौत हुई है। इस मौत कारण ऑक्सीजन का मॉकड्रिल बताया जा रहा है। प्रदेश सरकार ने मामले पर त्वरित कार्रवाई करते हुए अस्पताल को सीज कर दिया गया है। हॉस्पिटल का एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें ऑक्सीजन की कमी के दौरान मॉकड्रिल के दौरान 22 लोगों की मौत का दावा किया जा रहा है। पूरे मामले की जांच की जा रही है। संचालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मौके पर दो घंटे जांच के बाद पारस हॉस्पिटल को सीज करने के आदेश जिलाधिकारी आगरा ने दे दिए हैं। पारस हॉस्पिटल के संचालक डॉ अरिंजय जैन के खिलाफ महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा कायम होगा।

यह मुकदमा उनके द्वारा वीडियो में मोदीनगर में ऑक्सीजन खत्म होने की भ्रामक सूचना के कारण दर्ज होगा। बताया जा रहा है कि हॉस्पिटल में 55 मरीज भर्ती हैं। सीएमओ आगरा हॉस्पिटल के सभी मरीजों को उचित हॉस्पिटल में शिफ्ट कराने की कार्यवाही कर रहे हैं। ऑक्सीजन का मॉकड्रिल की इस पूरी घटना पर लखनऊ से लेकर आगरा तक हड़कंप मचा हुआ है। लखनऊ से पूरी घटना की जांच की मॉनीटरिंग की जा रही है।
यह है मामला

आगरा के पारस हॉस्पिटल के मालिक डॉ. अरिंजय जैन का एक वीडियो सामने आया है। इसमें डॉक्टर को ये कहते हुए सुना जा रहा है कि 26 अप्रैल को अस्पताल में मरीजों की संख्या बढ़ गई थी। इस वजह से 5 मिनट के लिए ऑक्सीजन सप्लाई बंद कर दी गयी। ऑक्सीजन का मॉकड्रिल से 22 मरीजों की मौत हो गई। इस मामले में डॉ. अरिंजय ने ये तो माना है कि आवाज उन्हीं की है लेकिन वो सारे आरोपों को खारिज करते हैं।

राहुल-प्रियंका ने पूछा सवाल
ऑक्सीजन की कमी से 5 मिनट में 22 मरीजों की मौत के दावे पर राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने बीजेपी सरकार में ऑक्सीजन और मानवता की भारी कमी है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा ऑक्सीजन की कमी से हुई मौतों का जिम्मेदारों पर कार्रवाई की मांग की है।

जांच का आश्वासन
स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह का कहना है कि जांच पूरी होने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि पारस अस्पताल में ऑक्सीजन उपलब्ध कराने में समस्या की शिकायत मिली है। शासन स्तर पर कार्रवाई की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *