Breaking News

इस मंदिर में जो रुका वो बन जाता है पत्थर का, बेहद खौफनाक है ये जगह

पूरी दुनिया में कुछ ऐसी जगहें भी हैं जो आज भी लोगों के लिए रहस्यमयी बनी हुई हैं। आज भी लोग ऐसी जगहों के बारे में जानकर हैरान हो जाते हैं। ऐसी ही कई जगहें राजस्थान में भी हैं। इन जगहों के रहस्यों को कोई नहीं जान पाया, मगर ये सुर्ख़ियों में रहते हैं।

राजस्थान में ऐसे कई मंदिर भी हैं। इनमें से एक मंदिर कई रहस्यों से भरा पड़ा है। मान्यता है कि यदि कोई व्यक्ति गलती से भी शाम ढलने के बाद इस मंदिर में रुक जाता है तो वह हमेशा के लिए पत्थर का बन जाता है।

 

File:Kiradu ke Mandir - Barmer - Rajasthan - 011.jpg - Wikimedia Commonsकिराडू मंदिर बाडमेर में है

यह रहस्मयी मंदिर राजस्थान के बाडमेर जिले में है। इस मंदिर का नाम किराडू मंदिर है। लोग इस मंदिर के नाम से डरते हैं। यहां पर्यटक तो काफी आते हैं, मगर शाम ढलने से पहले ही वहां से लोग चले जाते हैं। इसी वजह से शाम होते ही यह मंदिर बिलकुल सुनसान हो जाता है। इसके पीछे एक खौफनाक कारण है। मान्यता है कि शाम ढलने के बाद यदि कोई भी इस मंदिर में रुक जाता है तो वह हमेशा के लिए पत्थर का बन जाता है।

Know About Mysterious Kiradu Temple Where People Do Not Stop At Night -  अजब-गजब: कहानी राजस्थान के एक रहस्यमय मंदिर की, जहां रात के समय भूलकर भी  नहीं रुकते हैं लोग -दिया था श्राप

इस धारणा के पीछे एक कहानी है। मान्यता है कि यह सब एक साधु के श्राप की वजह से हुआ। एक साधु ने श्राप दिया था, इसी कारण कोई भी यदि शाम ढलने के बाद इस मंदिर में रुक जाता है तो वह हमेशा के लिए पत्थर का बन जाता है। लोगों के अनुसार आजतक कोई भी व्यक्ति शाम ढलने के बाद वहां से वापस नहीं आया है। हालांकि इस मंदिर की खूबसूरती लोगों को काफी पसंद है। ये मंदिर खंडहरों के बीच है। यहां लोग पिकनिक मनाने जाते है, मगर शाम होने से पहले ही वापस लौट जाते हैं।

लगती है लोगों की भीड़

किराडू का मंदिर देश में काफी फेमस है। यह बेहद खूबसूरत है। इसकी दीवारों पर बेहद खूबसूरत नक्काशी की गई है। इसी वजह से लोग इस मंदिर को देखने आते हैं। दिन में यहां पर्यटकों और सैलानियों की बहुत भीड़ लगी रहती है। वहीं कुछ लोग तो इस मंदिर से इतना डरते हैं कि इसे दूर से देखकर ही वापस लौट जाते हैं। वो लोग इस मंदिर में भीतर जाने की हिम्मत नहीं जुटा पाते। वहीं जो लोग मंदिर में जाते हैं, वे शाम होने से पहले ही वापस आ जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *