Breaking News

इन 3 तरह के घरों में माँ लक्ष्मी नहीं रखती हैं कदम, हमेशा रहती हैं गरीबी

विष्णु पुराण में माँ लक्ष्मी के बारे बहुत कुछ लिखा हैं। हिंदू धर्म में लक्ष्मी देवी को धन की देवी माना जाता है। ऐसी स्थिति में हर घर में लक्ष्मी माँ की यात्रा अपने साथ सुख समृद्धि और धन की वर्षा लाती है। कुल मिलाकर, मान लीजिए कि घर में लक्ष्मी का निवास सुख और शांति का पूरक है। ऐसे में अगर आप किसी भी घर में सुख और शांति महसूस करते हैं तो वहां मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहेगी। देवी लक्ष्मी ने धन से संबंधित सभी उपदेश इंद्र देव को दिए थे यह सब विष्णु पुराण के धार्मिक पाठ में दर्ज है। इस पुस्तक में स्पष्ट रूप से लिखा गया है कि जिन लोगो से धन की देवी लक्ष्मी क्रोधित हो जाती हैं भले ही वह बहुत प्रयास कर ले लेकिन माँ लक्ष्मी उन पर कभी दया नहीं करती हैं.

माँ लक्ष्मी को खुश करने के लिए लोग सच्चे मन से माँ लक्ष्मी की भक्ति और पूजा करते हैं। जबकि कुछ लोग मां लक्ष्मी को घर में रखने के लिए टोना-टोटका का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन हम आपको बता दें कि टोना-टोटका कोई विवेक की बात नहीं है बल्कि इससे मां लक्ष्मी को ज्यादा गुस्सा आता है जिससे वह उस घर में हमेशा के लिए जाने से दूरी बनाकर रखती हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे घरों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां मां लक्ष्मी जाना कभी पसंद नहीं करती हैं। जिसके कारण उस घर में गरीबी और जमाव बढ़ता रहता है और परिवार को कभी भी शांति नहीं मिलती है।

हमारा भाषण हमें अच्छे और बुरे उच्चारण का ज्ञान कराता है। यदि हम किसी से कटु वचन बोलते हैं तो हम श्रोता पर अच्छा प्रभाव नहीं डालते हैं। वह अपमानित महसूस करता है और हमें नीचा भी समझता है। अगर हम किसी को कड़वा बोलते हैं तो बदले में वह हमें कड़वा जवाब भी देगा। दूसरी ओर अगर हम अपने भाषण में थोड़ी शहद जैसी मिठास मिलाते हैं तो इससे श्रोता पर एक अच्छी छवि बनेगी और वह हमारा दिल से सम्मान करेंगे। विष्णु पुराण में स्पष्ट रूप से लिखा गया है कि जो लोग कड़वी बोली और अपमानजनक भाषा का प्रयोग करते हैं माँ लक्ष्मी उनसे नाराज़ हो जाती हैं और कभी भी उनके घर वापस नहीं आती हैं। जिसकी वजह से परिवार को संकटों और दुखो को भुगतना पड़ता है। भले ही हम पैसा कमाने के लिए लाख काम करें लेकिन हमारी गालियाँ हमें कभी अमीर नहीं बनने देंगी।

 

माँ लक्ष्मी उस घर में रहना पसंद नहीं करती जहाँ सदस्य हर बात पर क्रोधित होता है और अपने प्रियजनों को अपमानित करता है। गुस्सा हमें नकारात्मक चीजें करने के लिए मजबूर करता है। कई घरों में, पति-पत्नी के रिश्ते के टूटने के कारण उनका गुस्सा और अहंकार होता है। इसके विपरीत अगर हम घर में गुस्से के बजाय प्यार से रहते हैं तो यह हमारी सकारात्मक ऊर्जा को दर्शाता है। मां लक्ष्मी हमेशा उन लोगों पर अपनी कृपा दृष्टि बनाए रखती हैं जो सच्चे दिल से प्यार करना जानते हैं और अपने प्रियजनों की सराहना करते हैं।

 

जिस घर में पंडितों या धार्मिक ग्रंथों का अपमान होता है वहां से मां लक्ष्मी चली जाती हैं और फिर वापस नहीं आती हैं। विष्णु पुराण में धार्मिक ग्रंथों को बहुत उच्च और विशेष स्थान दिया गया है। इसके अलावा जिन घरों में दीपक नहीं जलाए जाते हैं उस घर में भी धन की कृपा रुकती है और मां लक्ष्मी उस घर की ओर कभी मुड़कर नहीं देखती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *