Breaking News

अमेरिका ने ताइवान को दिया ये अचूक हथियार, एक ही वार में चीन में बिछ जायेंगी हजारों लाशें

चीन को अपने पड़ोसी देशों के साथ पंगा लेना अब महंगा पड़ता जा रहा है। भारत के अलावा वह सीधे ताइवान से टकराने की हिमाकत कर रहा है, जिसका जवाब देने के लिए अमेरिका ने भी कमर कस ली है। ताइवान की सेना को मजबूत बनाने के लिए अमेरिका ने उसे बड़े पैमाने पर आधुनिक हथियार देना शुरू कर दिया है।

तीन परिष्कृत हथियार प्रणालियों की बिक्री की घोषणा करने के एक दिन बाद ट्रंप प्रशासन ने ताइवान के लिए कांग्रेस को दो और उन्नत आयुध की अनुमोदित बिक्री की सूचना दी।

व्यापार को लेकर अमेरिका और चीन के बीच तनाव बढ़ा है। वुहान कोरोना वायरस (COVID-19) महामारी, हांगकांग में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून और शिनजियांग में मानवाधिकारों के हनन को लेकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बीजिंग के खिलाफ सख्त रुख अपनाया है।

रॉयटर्स ने आठ स्रोतों का हवाला देते हुए कहा कि विदेश मामलों की सीनेट समिति और प्रतिनिधि मामलों की समिति की विदेश समिति ने ताइवान को दो उन्नत हथियार प्रणालियों की बिक्री के लिए राज्य विभाग के अनुमोदन को अनौपचारिक रूप से अधिसूचित किया था।

कथित तौर पर इस सौदे के दूसरे दो भाग में उन्नत जनरल एटॉमिक्स MQ-9 ड्रोन और शोर-माउंटेड हार्पून मिसाइल प्रणाली शामिल हैं। हाई मोबिलिटी आर्टिलरी रॉकेट सिस्टम (HIMARS), स्टैंडऑफ लैंड अटैक मिसाइल-एक्सपेंडेड रिस्पॉन्स (SLAM-ER) और बाहरी सेंसर पॉड्स को लेकर ट्रंप प्रशासन ने पहले ही ताइवान को देने की घोषणा की थी। हथियारों के पैकेज की कुल लागत 5 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गई है।

ट्रंप प्रशासन ने मिसाइल टेक्नोलॉजी कंट्रोल रिजीम (MTCR) हथियार नियंत्रण समझौते पर लगाम लगाने के बाद दुनिया भर में ड्रोन की बिक्री बढ़ाने की योजना को आगे बढ़ाया। रायटर के सूत्रों में से एक ने कहा कि बिक्री में ताइवान के समुद्र तट की रक्षा के लिए लगभग 100 हार्पून एंटी-शिप मिसाइलें शामिल होंगी, जिनका निर्माण बोइंग द्वारा किया जाता है और लगभग 2 बिलियन अमेरिकी डॉलर की लागत आती है।

यह सौदा ऐसे समय में हुआ है जब चीन ने ताइवान पर अपने आक्रामक सैन्य दबाव को पीपुल्स लिबरेशन आर्मी एयर फोर्स (PLAAF) द्वारा लगभग 16 अगस्त से ताइवान के वायु रक्षा पहचान क्षेत्र (ADIZ) में आगे बढ़ाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *