Breaking News

India के लिये समर्पित है Google CEO Sundar Pichai जन्मभूमि के लिए कही बड़ी बात

गूगल के सीईओ, जो कि दुनिया की जानी-मानी हस्तियों में से एक है. सुंदर पिचाई (Google CEO Sundar Pichai) ने एक बार फिर से भारत के प्रति अपना प्यार और लगाव दर्शाया है. पिचाई चेन्नई में जन्मे है और उनको भारत से बहुत लगाव हैं. इस बात का अंदाजा उनके हर एक स्पीच से लग जाता है. हाल ही में पिचाई ने कहा कि मैं भले ही अमेरिकी नागरिक हूं, लेकिन भारत मेरी रग-रग में बसा हुआ है और मैं आज जो कुछ भी बन पाया हूं उसमें भारत का सबसे बड़ा हिस्सा है. अबकी बार यह बात है पिचाई ने एक इंटरव्यू के दौरान अपनी रूट्स को लेकर किए गए सवालातो के दरमियान की.

कई मुद्दों पर रखें अपने विचार

सीईओ सुंदर पिचाई ने सिलीकान वैली में ओपन इंटरनेट और इससे जुड़े कई मुद्दों पर पिचाई ने बातचीत की. चीन इंटरनेट मॉडल पर पिचाई ने बोला कि आज फ्री और ओपन इंटरनेट पर बहुत से हमले किए जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि हमारे कोई भी बड़े प्रोजेक्ट और सर्विस चीन में ऑपरेशनल नहीं है.

पिचाई ने टैक्स सिस्टम पर भी बात कर की और कहा कि हम अपने शेयर का बड़ा हिस्सा टैक्स के रूप में दे रहे हैं और दुनिया के सबसे बड़े करदाताओं में से एक बन चुके हैं. उन्होंने यह भी कहा कि पिछले 10 सालों में गूगल ने औसतन 20% कमाई को टैक्स के रूप में भरा है. उन्होंने कहा हम टैक्स का बड़ा हिस्सा अमेरिका में रहते हैं क्योंकि हमारे प्रोडक्ट तैयार यही होते हैं.

पिचाई ने आगे कहा कि जो भी देश स्वतंत्र इंटरनेट को आगे की ओर बढ़ाना चाहते हैं, उन्हें इसके सामने आने वाली कई चुनौतियों के लिए डटे रहना पड़ेगा और मुकाबला करना चाहिए. यह बयान पिचाई ने सोशल मीडिया को लेकर भारत में लागू किए गए नए कानूनों को लेकर दिया है.

बदल रहे हैं लगातार फोन

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर बात करते हुए पिचाई ने कहा कि यह सबसे मजबूत टेक्निक है जिस पर इंसान काम कर सकता है. इसके आगे उन्होंने कहा कि अगर आप आग या बिजली या इंटरनेट के बारे में तो सोचे तो ये उसी तरह का है

अपने टेक हैबिट पर पिचाई ने कहा कि सभी को कम से कम 2 बार वेरिफिकेशन से गुजरना चाहिए साथ ही पासवर्ड प्रोटेक्शन को लेकर भी उन्होंने यह माना कि वह भी नई तकनीक के टेस्ट के लिए लगातार अपना फोन चेंज करते ही रहते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *