Thursday , September 28 2023
Breaking News

AAP ने MP और छत्तीसगढ़ चुनाव के लिए जारी की उम्‍मीदवारों की पहली सूची

मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ (Madhya Pradesh and Chhattisgarh) में इस साल होने वाले विधानसभा चुनावों (assembly elections) को लेकर आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) ने अपने कैंडिडेट की पहली लिस्ट (candidate list) जारी कर दी है. AAP ने छत्तीसगढ़-मध्य प्रदेश चुनाव के लिए पहली लिस्ट में 10-10 कैंडिडेट्स के नामों का ऐलान किया है.

बता दें कि छत्तीसगढ़ में आम आदमी पार्टी ने दंतेवाड़ा से बालूराम भवानी, अकलतरा से आनंद प्रकाश मिरी और भटगांव से सुरेंद्र गुप्ता को मैदान में उतारा है. वहीं मध्य प्रदेश के सेवड़ा से संजय दुबे, दिमनी से सुरेंद्र सिंह तोमर, मुरैना से रमेश उपाध्याय औऱ महाराजपुर से रामजी पटेल ताल ठोकेंगे.

AAP ने मध्य प्रदेश की इन सीटों पर उतारे उम्मीदवार
सेवड़ा- संजय दुबे
गोविंदपुरा- सज्जन सिंह परमार
हुजूर- डॉ. रविकांत द्विवेदी
दिमनी- सुरेंद्र सिंह तोमर
मुरैना- रमेश उपाध्याय
पेटलावाड़- कोमल दामोर
सिरमौर-सरिता पांडे
सिरोंज- आईएस मोर्ये
चुरहट- अनेंद्र गोविंद मिश्रा ‘राजन’
महाराजपुर- रामजी पटेल

AAP ने छत्तीसगढ़ की इन सीटों पर उतारे कैंडिडेट
दंतेवाड़ा- बालूराम भवानी
नारायणपुर – नरेन्द्र कुमार नाग
अकलतरा – आनंद प्रकाश मिरी
भानुप्रतापपुर – कोमल हुपेंडी
कोरबा -विशाल केलकर
राजिम – तेजराम विद्रोही
पत्थलगांव – राजाराम लकड़ा
कवर्धा – खड़गराज सिंह
भटगांव -सुरेन्द्र गुप्ता
कुनकुरी – लेओस मिंज

लिस्ट जारी करने के बाद AAP ने क्या कहा?
छत्तीसगढ़ के लिए जारी 10 कैंडिडेट में से 5 सीटें अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं. 10 उम्मीदवारों में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली पार्टी की राज्य इकाई के प्रमुख कोमल हुपेंडी और किसान नेता तेजराम विद्रोही शामिल हैं. आम आदमी पार्टी ने एक्स (पूर्व में ट्विटर) पर लिखा कि छत्तीसगढ़ चुनाव के लिए आप उम्मीदवारों की पहली सूची आ गई है. सभी उम्मीदवारों को शुभकामनाएं. इस बार चलेगी झाड़ू.

छत्तीसगढ़ की कितनी सीटों पर होना है चुनाव?
2018 के विधानसभा चुनावों में AAP ने 85 उम्मीदवार उतारे थे, लेकिन सभी की जमानत जब्त हो गई थी. 90 सदस्यीय सदन के चुनावों में कांग्रेस की जीत हुई थी. जिसने 15 साल की सत्ता के बाद भारतीय जनता पार्टी को बाहर कर दिया. बता दें कि 2018 में भानुप्रतापपुर (एसटी) सीट से हारने वाले हुपेंडी को फिर से वहां से मैदान में उतारा गया है. पार्टी के एक पदाधिकारी ने कहा कि वह 2016 में सहकारी विस्तार अधिकारी की सरकारी नौकरी छोड़ने के बाद आप में शामिल हुए थे. उन्होंने बताया कि भानुप्रतापपुर क्षेत्र के मुंगवाल गांव के मूल निवासी हुपेंडी के पास बिलासपुर कॉलेज से एमए की डिग्री है और उन्हें 2008 में छत्तीसगढ़ लोक सेवा आयोग (सीजीपीएससी) के माध्यम से सहकारी विस्तार अधिकारी के रूप में चुना गया था.