Breaking News

9/11 हमले पर लादेन की भतीजी ने कही ऐसी बात, US मीडिया में मचा बवाल, बोलीं- ट्रंप नहीं तो..

दुनियाभर में आतंक को जन्म देने वाला अलकायदा प्रमुख मोस्ट वांटेड आतंकी ओसामा बिन लादेन की भतीजी ने इन दिनों एक ऐसा बयान दिया है, जो सोशल मीडिया पर धड़ल्ले से वायरल हो रहा है। दरअसल लादेन की भतीजी ने एक इंटरव्यू में बयान देते कहा कि अगर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका में इस साल होने जा रहे राष्ट्रपति के चुनाव हारते हैं तो अमेरिका में 9/11 हमला फिर से दोहराया जा सकता है। इसके पीछे के कई कारण है। ओसामा की भतीजी नूर बिन लादेन ने यह बात इसलिए कही हैं, क्योंकि वह डोनाल्ड ट्रंप का समर्थन करती हैं। उनका कहना है कि डोनाल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद अमेरिका में आतंकी गतिविधियां पूरी तरह से समाप्त हुई हैं। यह सिर्फ ट्रंप ही कर सकते थे। इससे पहले बराक ओबामा की सरकार थी, लेकिन उस समय ओबामा और जो बिडेन मिलकर सरकार नहीं चला पा रहे थे. तो यह कैसे सुनिश्चित किया जाए कि अब अगर बिडेन चुनाव जीत भी जाते हैं, तो अमेरिका को कैसे सुरक्षित रख पाएंगे। नूर ने कहा कि अमेरिका के लिए ट्रंप सरकार ही सही है, उस समय बिडेन और ओबामा दोनों मिलकर एक वामपंथी सरकार चला रहे थे. इनके कार्यकाल में ही ISIS का दुनियाभर में विस्तार हुआ और वो यूरोप तक पहुंच गया।

 

नूर बिन लादेन ने एक इंटरव्यू में चेतावनी देते हुए कहा कि अमेरिका को वामपंथी सरकार की जरूरत नहीं है. जो बिडेन पर निशाना साधते हुए नूर लादेन ने कहा कि बिडेन की सरकार आएगी तो उससे नस्लीय भेदभाव को बढ़ावा मिलेगा. वह अमेरिका की सुरक्षा नहीं कर पाएंगे. इस काम के लिए डोनाल्ड ट्रंप ही सही व्यक्ति हैं। चूंकि बिडेन के मुकाबले ट्रंप की छवि अमेरिका में इतनी भी खराब नहीं है, कि वो दोबारा राष्ट्रपति नहीं बन सकते। वह काफी सुलझे हुए व्यक्ति हैं, वह हर काम को समझने के बाद ही निर्णय लेते हैं। ट्रंप सिर्फ अमेरिका में ही नहीं बाहरी देशों में भी पॉपुलर हैं, भारत के साथ भी अमेरिका के अच्छे संबंध बन रहे हैं।

नूर लादेन ने कहा कि अपने चाचा की बदनामी की वजह से उन्होंने नूर बिन लादेन से अपना नाम बदल कर नूर बिन लादिन कर लिया है. वो नहीं चाहतीं कि चाचा की बदनामी की वजह से दुनिया हमें भी उस नजर से देखें। हम बिल्कुल आतंकवाद और अन्य गतिविधियों के खिलाफ हैं।

नूर ने बताया कि वह ट्रंप का समर्थन इसलिए करती हैं कि उन्होंने देश को बाहरी खतरों से बचाया है। नूर ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकवाद की जड़ पर हमला किया है. ट्रंप को फिर से इसलिए भी चुनाव जीतना चाहिए क्योंकि उनकी सरकार न सिर्फ अमेरिका, बल्कि समूचे पश्चिमी सभ्यता को बचाने के लिए जरूरी है।

मालूम हो कि दुनिया के सबसे खतरनाक आतंकी ओसामा बिन लादेन को ओबामा की सरकार ने मार गिराया गया था. उस समय अमेरिका के उप राष्ट्रपति पद पर जो बिडेन थे, जो मौजूदा समय में राष्ट्रपति पद पर डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार हैं। खबरों की मानें तो बिडेन और डोनाल्ड ट्रंप के बीच में इस साल कांटे की टक्कर देखने को मिल सकती है। रिपोर्ट के मुताबिक ट्रंप के साशन में अमेरिका पूरी तरह से सुरक्षित रहा है, ओबामा सरकार के मुकाबले जिस तरीके 9/11 हमले को अंजाम दिया गया था, कहीं न कहीं ये एक दाग बिडेन के लिए सबक बन सकता है। बाकी जनता जनार्दन है जिस पक्ष को वोट ज्यादा मिलेंगे वहीं अमेरिका का अगला राष्ट्रपति होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *