Breaking News

26 जनवरी को दिल्ली में हुई हिंसा के बाद 400 से ज्यादा किसान गायब, सियासी माहौल गरमाया

राजधानी में किसान परेड के दौरान लाल किला और दिल्ली के कई जगहों में हिंसा हुई। जिसके बाद अब सियासत गरमाने लगी है। अब पंजाब में इसको लेकर काफी माहौल गरमाने लगा है। सूत्रों से मिली जानकारी के दौरान सूबे के किसान संगठनों और धार्मिक संगठनों ने 400 से ज्यादा किसानों व नौजवानों के गायब होने का आरोप लगाया है साथ ही इस मामले में दिल्ली पुलिस पर सवाल उठाये जा रहे हैं। कई किसान संगठनों और धार्मिक संगठनों ने आरोप लगाया है कि दिल्ली हिंसा के दौरान 400 से अधिक युवा और बुजुर्ग किसान गायब हैं।

बता दें अमृतसर के खालड़ा मिशन ने आरोप लगाते हुए कहा है कि गायब हुए सभी लोग दिल्ली पुलिस की ग़ैरक़ानूनी तरीके से हिरासत में रखा है। खालड़ा मिशन ने सोमवार को इस मामले में हाईकोर्ट में जाने का निर्णय किया है। मानवाधिकार संगठन के जांच अधिकारी सरबजीत सिंह वेरका ने दिल्ली पुलिस पर उंगली उठाते हुए कहा कि किसी भी शख्स को बिना किसी मामले के अधिक वक्त तक लॉक अप में नहीं रख सकते हैं, इस वजह से हिरासत में लिए गए लोगों के बारे में पुलिस पूरी जानकारी दे। उन्होंने अपने बयान में आगे कहा है कि इस केस को लेकर हमने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाने के लिए पूरी तैयारी कर ली है।

वकील भी जुटे गायब हुए लोगों की तलाश में
पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट के वकील हाकम सिंह ने कहा कि पंजाब के 26 जनवरी को 80-90 युवक सिंघु और टिकरी बॉर्डर गए थे। हिंसा की घटना के बाद वे सभी लोग अब तक अपने शिविरों में वापस नहीं आए हैं। वकीलों का एक समूह उनकी तलाश करने में जुटा हुआ है। उन्होंने कहा कि उनकी तलाश करने के लिए हम पुलिस, किसान संगठनों और हॉस्पिटल्स के साथ में हैं।

11 नौजवान तिहाड़ में बंद : सिरसा
शनिवार को दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान मनजिंदर सिंह सिरसा ने आरोप लगाया कि दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हुयी हिंसा के बाद गायब हुए मोगा जिले के 11 युवक दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद हैं, जिन्हें नांगलोई थाने के तहत हिरासत में लिया गया था। मनजिंदर सिंह सिरसा ने अपने फेसबुक अकाउंट पर लाइव बयान में यह आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि गणतंत्र दिवस पर हुई हिंसा कि घटना के बाद गायब युवकों कि तस्वीर लगातार सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। उन्होंने आगे कहा कि 26 जनवरी की ट्रैक्टर रैली को लेकर आरोपी बनाए गए किसानों के लिए डीएसजीएमसी कानूनी लड़ाई लड़ेगी।

इन 12 किसानों की हो रही है तलाश
मोगा के 12 किसानों को ढूंढने की कोशिश चल रही रही है, जो 26 जनवरी को राजधानी दिल्ली में ट्रैक्टर रैली के बाद से गायब हैं। मोगा के ग्राम पंचायत ने गायब हुए किसानों की तस्वीर व पहचान जारी कर दी है। इन किसानों में अमृतपाल सिंह, गुरप्रीत सिंह, दलजिंदर सिंह, जगदीप सिंह, जगदीश सिंह, नवदीप सिंह, बलवीर सिंह, भाग सिंह, हरजिंदर सिंह, रणजीत सिंह, रमनदीप सिंह और जसवंत सिंह शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *