Breaking News

सीएम योगी आदित्यनाथ की दो टूक, बोले-हाथरस में किसी भी साजिश को सफल न होने देंगे

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि राज्य में अराजकतत्व उपद्रव कराकर सरकार को बदनाम करने की साजिश कर रहे हैं लेकिन हम किसी भी साजिश को सफल नहीं होने देंगे। योगी ने बुधवार को उन्नाव में बांगरमऊ क्षेत्र के मंडल, सेक्टर और बूथ के पदाधिकारियों को वर्चुअल संवाद करते हुए कहा कि कुछ अराजकतत्व राज्य में उपद्रव कराकर सरकार को बदनाम करने की कोशिश कर रहे है। सभी साजिशकर्ता बेनकाब होंगे। सजिश करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगे।

उन्होंने कहा कि जो लोग समाज के माहौल को खराब करके समाज में जातिय द्वेष पैदा करके, अराजकता पैदा करके विकास कार्य अवरुद्ध करना चाहते हैं लेकिन विकास अवरुद्ध नहीं होगा। उत्तर प्रदेश तेजी के साथ आगे बढ़ रहा है। ये लोग विकास पर चर्चा नहीं कर सकते। योगी ने कहा कि कार्यकर्ता विपक्ष के दुष्प्रचार को तर्कपूर्ण जवाब मजबूती से दे। कुछ लोग समाज को जाति, धर्म और क्षेत्र के आधार पर विभाजित करते रहे हैं, वे इसी कार्य में लिप्त हैं। वे प्रदेश में विकास कार्यों होते नहीं देख सकते, इसलिए नए-नए षड्यंत्र रच रहे हैं। किसी की मृत्यु पर राजनीति करने वालों को पहचानना चाहिए।

उन्होंने कहा कि महामारी से बदले परिदृश्य में यही जीत की कुंजी है। उन्होंने संपर्क के दौरान संक्रमण बचाव के उपायों का सख्ती से पालन करने की सलाह भी दी। उन्होंने कहा कि विपक्ष झूठा व भ्रामक दुष्प्रचार करने में जुटा है। ऐसे में विपक्ष की पोल खोलने के साथ केंद्र और प्रदेश सरकारों की उपलब्धियों को जन जन तक पहुंचाने की जरूरत है। योगी ने कहा कि विपक्ष हाथरस के मुद्दे पर राजनीति कर रहा है। एक तरफ सरकार विकास के काम में लगी है, वहीं ये लोग षड्यंत्र रच रहे हैं। कुछ लोगों को विकास अच्छा नहीं लग रहा है। लोक कल्याण उन्हें अच्छा नहीं लग रहा है। शासन की योजनाएं अच्छी नहीं लग रही हैं। उन्होंने कहा कि इन सभी की साजिश और कृत्य जनता के सामने आ रहे हैं। कोई कहता है कि हम दंगा कराएंगे, जाति के आधार पर, कुछ और उधर से मरेंगे, कुछ लोग इधर से मरेंगे। हमारे नेता आएंगे, उसके बाद जाकर राजनीति करेंगे। उन्होंने कहा है कि हाथरस में एक बड़ी साजिश रची जा रही थी। हम किसी भी तरह की साजिश को सफल नहीं होने देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *