Breaking News

श्रद्धा मर्डर केस : अब नार्को टेस्ट में सच उगलेगा आफताब, हड्डियों का डीएनए और खून की भी होगी जांच

श्रद्धा मर्डर केस (shraddha murder case) का आरोपी आफताब अमीन पूनावाला (Aftab Amin Poonawalla) सच बोल रहा है या झूठ? इस बात का फैसला अब नार्को टेस्ट (narco test) से होगा. अदालत (court) से टेस्ट की इजाजत मिलने के बाद माना जा रहा है कि हैवानियत की सारी हदें पार करने वाला आफताब अब इस हत्याकांड से जुड़ा एक-एक राज उगल देगा. ऐसे में अब दो बातें हैं, जो इस पूरे केस में अहम हो जाती हैं, एक जंगल से बरामद हड्डियों (bones) की डीएनए रिपोर्ट और दूसरा नार्को टेस्ट.

श्रद्धा मर्डर केस में सबूत और सुराग ही पुलिस के लिए खासे अहम हैं. ऐसे में अदालत ने आरोपी के नार्को टेस्ट की इजाजत देकर दिल्ली पुलिस को राहत देने का काम किया है. पुलिस को उम्मीद जगी है कि अब जल्द ही आफताब के गुनाहों से पर्दाफाश हो जाएगा. क्योंकि अब दिल्ली पुलिस ने रोहिणी फोरेंसिक लैब में नार्को टेस्ट के लिए अप्लाई किया है. ताकि वहां से टेस्ट के लिए टाइम मिल जाए.

आफताब अमीन पूनावाला पर कानूनी फंदा कसने के लिए जरूरी है कि नार्को टेस्ट के साथ-साथ सबूत भी इकट्ठा किए जाएं. सबूतों और सुरागों की तलाश करती पुलिस अब दिल्ली समेत पूरे पांच राज्यों की हद तक जा पहुंची है.

कत्ल के एक-एक सबूत को इकठ्ठा करने के लिए पुलिस अब हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड भी जाएगी. पुलिस को शक है कि श्रद्धा का मर्डर करने के बाद आरोपी आफताब ने सबूतों को सिर्फ दिल्ली ही नहीं बल्कि दूसरे शहरों में भी छुपाया है. जैसे ही श्रद्धा के मोबाइल फोन को मुंबई में फेंके जाने की बात सामने आई है. वैसे ही कुछ अहम सबूत को हिमाचल प्रदेश में भी छुपाने की आशंका है.

इसलिए पुलिस की एक टीम आफताब को लेकर हिमाचल जाने वाली है. वहां पुलिस आरोपी आफताब से क्राइम सीन रीक्रिएट करा सकती है. श्रद्धा मर्डर केस में सबूतों की तलाश के लिए दिल्ली पुलिस की कई टीमें जुटी हैं. एक टीम महरौली के जंगलों की खाक छान रही है. लेकिन पुलिस के हाथ अब तक बहुत पुख्ता सबूत नहीं लगे हैं.

पुलिस की परेशानी इसलिए भी बढ़ती जा रही है क्योंकि आफताब पुलिस को कुछ भी नहीं बता रहा, कुछ बता भी रहा है तो सिर्फ गुमराह करने वाली बातें. ऐसे में पुलिस के सामने महरौली का जंगल ही बचा है, जहां से कुछ ऐसा पुख्ता सबूत मिले जो इस केस में पुलिस का पक्ष मजबूत कर सके.

पुलिस सूत्रों की मानें तो आफताब ने पूछताछ और घर की तलाशी के दौरान किचन में गैस सिलिंडर रखनेवाली जगह पर भी एक बार श्रद्धा की लाश के कुछ टुकड़े रखने की जानकारी दी है. जिसके बाद पुलिस की मौजूदगी में जब फोरेंसिक एक्सपर्ट्स ने उस जगह की तलाशी ली, तो वहां वाकई खून के निशान मौजूद नजर आए हैं, जो एक अहम सुराग बन सकते हैं.

बताया जा रहा है कि आफताब की निशानदेही पर ही दिल्ली पुलिस ने महरौली के जंगलों से 13 हड्डियां बरामद की हैं. जिन्हें फोरेंसिक जांच के लिए लैब में भेजा जा चुका है. कुल मिलाकर ये केस इस वक्त पूरी तरह से फोरेंसिक जांच पर ही टिका है.

इसीलिए दिल्ली पुलिस ने श्रद्धा के घरवालों के डीएनए सैंपल भी उनकी मर्जी से हासिल कर लिए हैं. अब पुलिस की कोशिश है कि सबूतों की कड़ी को मुक्कमल बना लिया जाए ताकि आफताब को जल्द से जल्द सख्त सजा दिलाई जा सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *