Breaking News

लाल ग्रह मंगल पर लगेगा ‘जाम’, पहुंच रहे UAE, चीन और अमेरिका के यान भी जल्द करेंगे लैंड

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) का एक अंतरिक्ष यान होप (HOPE) मंगल ग्रह (Mars) के काफी नजदीक पहुंच गया है और उम्मीद है कि आज ये मंगल की कक्षा में प्रवेश कर जाएगा। ये अंतरिक्ष यान उन तीन रोबोट खोजकर्ताओं में से एक है, जो अगले डेढ़ हफ्तों में लाल ग्रह पर पहुंचने वाले हैं। इसके अलावा एक-एक चीन (China) और अमेरिका (US) के अंतरिक्ष यान भी हैं, जो मंगल ग्रह पहुंचेंगे। ये ऑर्बिटर, जिसका नाम होप है और जिसे अरबी में अमल कहा जाता है, ने मंगल पर जाने के लिए लगभग सात महीनों में 300 मिलियन मील की यात्रा की। इसे वहां मंगल का पहला ग्लोबल वेदर मैप तैयार करने के लक्ष्य से भेजा गया है।


वहीं इसके पीछे चीन का एक ऑर्बिटर और लैंडर बुधवार को मंगल ग्रह पर पहुंचने वाला है। यह रोवर के अलग होने तक मंगल का चक्कर काटेगा और एनशिएंट लाइफ के संकेतों को देखने के लिए मई में सतह पर उतरने की कोशिश करेगा। इन दोनों के अलावा Perseverance नाम का एक अमेरिकी रोवर भी अगले हफ्ते मंगल पर पहुंचेने वाले इन यान में शामिल होने के लिए तैयार है, जिसकी टारगेट लैंडिंग 18 फरवरी की है। एक दशक से चले आ रहे अमेरिकी-यूरोपीय प्रोजेक्ट का ये पहला कदम होगा, जिसका टारगेट है मंगल की चट्टानों को पृथ्वी पर लाकर उनकी जांच करना।

मंगल के सभी मिशनों में से लगभग 60 फीसदी असफलता, दुर्घटनाग्रस्त, जलने या किसी और खराबी के कारण, यात्रा की जटिलता और मंगल के पतले वातावरण के माध्यम से वंश बनाने की कठिनाईओं के चलते फेल हो गए हैं। दुनिया में अब तक अमेरिका ही एक अकेला ऐसा देश है, जो मंगल पर सिर्फ एक, दो या तीन नहीं बल्कि आठ पर सफल लैंडिग कर चुका है। लगभग 45 साल पहले अमेरिका ने वहां पहले बार कदम रखा था। NASA दो लैंडर इनसाइट और क्यूरियोसिटी, अभी भी मंगल की सतह पर काम कर रहे हैं। यूएई के लिए, ये पृथ्वी की कक्षा से परे देश का पहला मिशन है, जिसने इसे एक राष्ट्रीय गौरव का विषय बना दिया। इतना ही नहीं मिशन को लॉन्च करने के कुछ दिनों तक, UAE भर में बुर्ज खलीफा सहित, पृथ्वी पर सबसे ऊंचा टॉवर, पर अमल की अनुमानित वापसी को चिह्नित करने के लिए लाल रंग से चमकता रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *