Breaking News

राष्ट्रपति जो बाइडन भारतीय अमेरिकी पेंटागन में एक प्रमुख पद के लिए किया नामित

राष्ट्रपति जो बाइडन ने गुरुवार को भारतीय अमेरिकी रवि चौधरी को पेंटागन में एक महत्वपूर्ण पद पर नामित करने की घोषणा की। वायुसेना के पूर्व अधिकारी, चौधरी को वायु सेना के प्रतिष्ठान, ऊर्जा और पर्यावरण के सहायक सचिव के पद के लिए नामित किया गया है पेंटागन के इस प्रमुख पद के लिए शपथ लेने से पहले उन्हें संयुक्त राज्य की सीनेट द्वारा पुष्टि करने की आवश्यकता होगी। व्हाइट हाउस द्वारा जारी किए गए उनके बायोडाटा के अनुसार, चौधरी ने पहले अमेरिकी परिवहन विभाग में एक वरिष्ठ कार्यकारी के रूप में कार्य किया है, जहां वे फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन (एफएए) में एडवांस्ड प्रोग्राम्स एंड इनोवेशन, ऑफिस ऑफ कमर्शियल स्पेस के निदेशक थे।

इस भूमिका में, चौधरी एफएए के वाणिज्यिक अंतरिक्ष परिवहन मिशन के समर्थन में उन्नत विकास और अनुसंधान कार्यक्रमों के निष्पादन के लिए जिम्मेदार थे। परिवहन विभाग में रहते हुए, उन्होंने कार्यकारी निदेशक, क्षेत्र और केंद्र संचालन के रूप में भी काम किया, जहां वे देश भर में स्थित नौ क्षेत्रों में विमानन संचालन के एकीकरण और समर्थन के लिए जिम्मेदार थे। व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिकी वायु सेना में 1993 से 2015 तक सक्रिय ड्यूटी पर रहते हुए उन्होंने वायुसेना में विभिन्न प्रकार के परिचालन, इंजीनियरिंग और वरिष्ठ कर्मचारियों के रूप में काम किए हैं। उन्होंने C-17 पायलट के रूप में वैश्विक उड़ानों का संचालन किया है। चौधरी अफगानिस्तान और इराक में कई लड़ाकू मिशनों के साथ-साथ इराक के कार्मिक रिकवरी सेंटर और मल्टी-नेशनल कॉर्प्स के निदेशक के रूप में तैनात रहे हैं।

रवि चौधरी ने उड़ान परीक्षण इंजीनियर के रूप में भी काम किया है। इस दौरान वह उड़ान सुरक्षा और दुर्घटना की रोकथाम के लिए वायुसेना के आधुनिकीकरण कार्यक्रमों के लिए सैन्य एवियोनिक्स और हार्डवेयर के उड़ान प्रमाणन के लिए जिम्मेदार थे। व्हाइट हाउस ने कहा कि अपने करियर के दौरान उन्होंने ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (जीपीएस) के लिए अंतरिक्ष प्रक्षेपण संचालन का समर्थन किया था और पहले जीपीएस नक्षत्र की पूर्ण परिचालन क्षमता सुनिश्चित करने के लिए तीसरे चरण और उड़ान सुरक्षा गतिविधियों का नेतृत्व कर चुके हैं।

एक सिस्टम इंजीनियर के रूप में, उन्होंने नासा के अंतरिक्ष यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए नासा के अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन संरक्षण गतिविधियों का समर्थन किया था।उन्होंने ओबामा प्रशासन के दौरान एशियाई अमेरिकियों और प्रशांत द्वीप समूह पर राष्ट्रपति के सलाहकार आयोग के सदस्य के रूप में भी कार्य किया है। चौधरी ने जॉर्जटाउन यूनिवर्सिटी डीएलएस प्रोग्राम से एक्जीक्यूटिव लीडरशिप और इनोवेशन में विशेषज्ञता के साथ डॉक्टरेट की है, नासा के स्नातक फेलो के रूप में सेंट मैरी विश्वविद्यालय से औद्योगिक इंजीनियरिंग में एमएस किया है। उन्होंने एयर यूनिवर्सिटी सेऑपरेशनल आर्ट्स एंड मिलिट्री साइंस में एमए और यूएस एयर फोर्स एकेडमी से एयरोनॉटिकल इंजीनियरिंग में बीएस भी किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *