Breaking News

मोदी ने दिखाया बड़ा दिल, तीरा को लगने वाले इंजेक्‍शन पर 6 करोड़ का टैक्स किया माफ

मुंबई के एक अस्पताल में गंभीर बीमारी से जूझ रही 5 महीने की बच्ची तीरा के इलाज की उम्मीद जगी है। पीएम मोदी इलाज के लिए हाथ बढ़ाया है और तीरा के इलाज के लिए अमेरिका से आने वाले 16 करोड़ रुपये के इंजेक्शन पर लगने वाला 6 करोड़ का टैक्स माफ कर दिया है। टैक्स लगने के बाद इस इंजेक्शन का दाम 22 करोड़ रुपये हो रहा था।

बच्ची तीरा SMA Type 1 बीमारी से जूझ रही है, जिसका इलाज अमेरिका से आने वाले 16 करोड़ रुपये के इंजेक्शन से ही मुमकिन है। क्राउड फंडिंग के जरिए बच्ची के इलाज के लिए पैसे इकट्ठा किए जा रहे हैं, लेकिन अब पीएमओ ने भी मदद की है और यूएस से आने वाले इंजेक्शन पर लगने वाले एडिशनल 6 करोड़ का टैक्स छोड़ दिया है।

तीरा को जीन रिप्लेसमेंट थेरेपी के माध्यम से ठीक किया जा सकता है, जिसमें यूएसए से आयात की गई दवा ज़ोल्गेन्स्मा शामिल है। तीरा के माता-पिता ने अक्टूबर 2020 में और फिर जनवरी में अपनी बेटी की मेडिकल स्थिति के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ साझा की थी।

विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन को पत्र लिखकर अमेरिका से इस महंगी दवा के आयात पर सभी लागू करों में छूट देने का अनुरोध किया था। जिसका जवाब देते हुए पीएम मोदी ने आयातित जीवनरक्षक दवा पर सीमा शुल्क से छूट देने की बात कही।

प्रियंका और मिहिर कामत, अंधेरी, मुंबई के निवास ने 14 अगस्त, 2020 को तीरा को जन्म दिया। जब वह पैदा हुई, वह सामान्‍य बच्चे की तरह थी। जन्म के दो सप्ताह बाद वह दूध पीते हुए बेचैन हो जाती थी और एक बार उसने सांस लेना बंद कर दिया।

डॉक्टरों ने उन्हें बताया कि वह स्पाइनल मस्कुलर एस्ट्रोफिज (एसएमए) से पीड़ित है। यह पाया गया कि इस बीमारी वाले व्यक्ति में वे जीन नहीं होते हैं, जिनसे प्रोटीन बनाने की उम्मीद की जाती है। यह तंत्रिका और मांसपेशियों को मजबूत करने की प्रक्रिया को धीमा कर देता है। नतीजतन, भोजन निगलने, सांस लेने में दिक्‍कत होती है और आगे चलकर यह स्थिति अधिक गंभीर हो जाती है।

इन दुर्लभ बीमारियों पर विदेशों में काफी शोध हो रहा है और कुछ दवाएं हाल ही में अमेरिका में उपलब्ध हुई हैं। हालांकि, दवा बहुत महंगी है और उपचार उनकी पहुंच से परे था। लेकिन युगल के प्रयास से लोगों ने तीरा के लिए दान किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *