Breaking News

बड़ा मंगलवार के दिन हनुमान जी को मनाने के लिए करें ये खास उपाय, मिलेगा लाभ

हनुमान जी को मंगलवार का दिन बेहद पसंद है और जब बात ज्येष्ठ में आने वाले मंगलवार की कि जाए तो इसका महत्व और भी ज्यादा होता है। कल यानि की 8 जून को ज्येष्ठ महीने का दूसरा बड़ा मंगलवार है। इस दिन भगवान हनुमान की पूजा करने शुभ फल प्राप्त होते हैं। हनुमान जी को भगवान शिव का रुद्र अवतार माना जाता है। इस दिन हमारे द्वारा बताए हुए उपायों के जरिए आप हनुमान जी की कृपा पा लेंगे।

इस मंत्र का करें जाप

मंगलवार के दिन उठ जाए और सुबह जल्द स्नान करने के बाद हनुमानजी को चोला चढ़ाएं। इस दौरान राम भक्त हनुमान जी के सामने चमेली के तेल का दीपक जलाएं और उन्हें गुलाब की माला अर्पित करें। हनुमान जी की मूर्ति के दोनों कंधों पर थोड़ा-थोड़ा केवड़े का इत्र लगा दें। इसके अपरांत पान के पत्ते पर गुड़ और चना का भोग लगाया जाता है। इस मंत्र का तुलसी की माला से जप करें।

मंत्र:
राम रामेति रामेति रमे रामे मनोरमे।
सहस्त्र नाम तत्तुन्यं राम नाम वरानने।।

बड़ पेड़ के पत्ते का करें प्रयोग

जब मंगलवार के दिन उठे, तो पहले स्नान करें बाद में बड़ के पेड़ का एक पत्ता तोड़कर घर ले आएं। साफ पानी से पत्ते को धुलकर हनुमान जी के सामने रख दें और इसकी पूजा करें। इस पत्ते पर केसर से श्रीराम लिख दें और फिर उस पत्ते को अपने पर्स में रख लें। ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से कभी भी धन की कमी नहीं होती है। ध्यान रखें पत्ता जब सूख जाए तो उसे गंगा में प्रवाहित कर दें।

भगवान राम की जरूर करें पूजा

भगवान राम के सबसे बड़े भक्त हनुमान जी थे। इसीलिए जो लोग हनुमान जी को मानते है, उन पर विशेष कृपा होती है। मंगलवार को भगवान राम और सीता माता की अराधना करना शुभ माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि बजरंगबली सभी की मनोकामनाओं को पूरा करते हैं।

हनुमान चालीसा का करें पाठ

मंगलवार की शाम को हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। हो सके तो इस दिन हनुमान जी के मंदिर भी जरूर जाएं। भगवान की प्रतिमा के संक्ष सरसों के तेल का और शुद्ध घी का दीपक भी जलाना चाहिए।

पीपल के पेड़ की जरूर करें पूजा

मान्यता अनुसार पीपल के पेड़ में सभी देवी देवताओं का वास माना जाता है। पीपल के पेड़ की पूजा काफी लाभदायक होती है। ऐसी मान्यता है कि ये करने से सभी प्रकार के कष्ट दूर हो जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *